Skip to main content

वो मुझे ही ढूढ़ रही थी

यह मेरे कॉलेज के दिनों की एक घटना है जिसमे एक दिन मुझे कॉलेज से घर जाते समय एक लड़की दिखी। जानी पहचानी लगी। फिर याद आया की एक समय स्कूल के दिनों में वो मेरी ही क्लास में थी। तब वह काफी मोटी हुआ करती थी लेकिन अब काफी फिट है और खूबसूरत भी। इसके आगे जो कुछ भी हुआ उससे मुझे ये सबक  मिला की भावनाओं में बहकर किसी के भी सामने और कहीं भी किसी के भी बारे में  कुछ भी नहीं बोल देना चाहिए चाहे वो सच ही क्यों ना हो क्योंकि लोग हर बात को गहराई से समझने के बजाय ज्यादातर गलत मतलब ही निकालते हैं।
वो मुझे ही ढूढ़ रही थी
हमेशा की तरह उस दिन भी मैं कॉलेज से निकला घर जाने की लिए अपने स्कूल के दिनों को याद करते हुए। वैसे तो मैं डायरेक्ट बस ना मिलने पर दूसरे स्टॉप तक पैदल ही जाता था। लेकिन उस दिन मैं ऑटो से जा रहा था। उस दिन आसमान में बदल छाये हुए थे और बारिस होने की भी संभावना थी। उस ऑटो में बैठे हुए अभी कुछ ही दूर पहुंचा होऊंगा की ऑटो वाले ने एक लड़की के सामने ऑटो रोक दिया जो की एक सिग्नल से थोड़ी दूर सड़क के किनारे खड़ी थी। शायद वो लड़की उसकी पहचान की रही होगी। वह ऑटोवाला उसे ऑटो में बैठने के लिए बोल रहा था लेकिन वो मना कर रही थी की मुझे नहीं बैठना है ,नहीं जाना है। फिर उस ऑटो वाले ने मुझे दूसरे ऑटो में बैठने को कहा। मुझे ताज़्ज़ुब हुआ लेकिन मैं दूसरे ऑटो में बैठ गया ये सोचकर की शायद वो लड़की मेरे कारण ऑटो में बैठने में आनाकानी कर रही थी। मुझे वो कुछ जानी पहचानी लग रही थी। फिर एकदम से याद आया अरे ये तो मेरी क्लासमेट थी। पहले बहुत मोटी हुआ करती थी और हँसमुख भी। हमेशा हंसती ही रहती थी और बहुत मजाक भी करती थी। इतने दिनों बाद देखकर उसे पहचान नहीं पा रहा था क्योंकि अब वो पतली और फिट हो चुकी थी और काफी खूबसूरत भी दिख रही थी। उससे संबंधित कुछ भूली यादें ताज़ा हो गयी। मैं कन्फ्यूज़ हुआ की उससे बात करूँ की नहीं। 
वो मुझे ही ढूढ़ रही थी
अपने संकोची स्वभाव की वजह से मैंने उससे बात नहीं करना ही सही समझा वैसे भी जब वो मेरी क्लास्मेट थी तब भी मेरी उससे बातचीत नहीं होती थी और कॉलेज के दिनों में भी मैं लड़कियों से दूर ही रहता था। लेकिन मन में बार बार ये शंका जरूर उठ रही थी की आखिर वो ऑटोवाला उसे बार बार बैठने के लिए क्यों कह रहा था उसके मना करने के बावजूद भी। अब क्या है की थोड़ा बहुत इमोशनल अटैचमेंट तो होगा ही आखिर वो मेरी क्लासमेट रह चुकी है वो भी स्कूल के दिनों की। 

उसके पिता और मेरे पिता सेना की एक ही रेजिमेंट में तैनात थे और वो रेजिमेंट के सबसे बड़े अधिकारी की बेटी थी। और अब मैं इतना तो समझ ही सकता हूँ की जो भी वजह रही हो लेकिन कोई ऑटोवाला उसे मजबूर नहीं कर सकता। इसी सोच विचार में मैं दूसरे ऑटो में बैठा वहां से दूर जा चूका था घर की ओर। 
लेकिन ये बात यही पर ख़त्म नहीं हुई। उसके कुछ दिनों बाद वो मुझे फिर दिखी। तब मैं अपने एक दोस्त के साथ एक खड़े ऑटो में बैठा था कंप्यूटर क्लास ख़त्म होने के बाद कॉलेज जाने के लिए और वो थोड़ी ही दूर खड़ी थी। किसी ऑटो के इंतज़ार में खड़ी होगी शायद। 

मैंने उसे देखते हुए कहा "यार मैं उस लड़की को जानता हूँ शायद। " 
दोस्त ने कहा "हाँ ,ये दो साल हमारे ही स्कूल में थी। पहले बहुत मोटी हुआ करती थी और बहुत ज्यादा हँसी मजाक करती थी। " इतना सुनने के बाद मैंने उसका नाम बता दिया। ये सुनकर मेरे दोस्त को ताज्जुब हुआ। मैंने दोस्त को बताया की यहाँ से पहले वो और मैं एक ही स्कूल में थे। उसके बाद मैंने भावनाओं में बहकर उस लड़की से सम्बंधित बहुत से किस्से शॉर्टकट में बता दिए। खासकर वो किस्सा की कैसे मेरा एक दोस्त उसको पसंद करने लगा था और उसने ये तक संदेश भिजवा दिया था की अगर वो नहीं आयी तो वो अपने जन्मदिन का केक नहीं काटेगा। पता नहीं मैंने उस समय भावनाओं में बहकर क्या क्या बता दिया उसके बारे में जो की नहीं बताना चाहिए था। वो ऑटोवाला भी हमारी बातें ध्यान से सुन रहा था। इसका एहसास मुझे बाद में हुआ। 
वो मुझे ही ढूढ़ रही थी
उसके बाद वो मुझे दुबारा नहीं दिखी। दिन गुजरते गए। मैं भी अपनी दिनचर्या में उसको भूलता गया। धीरे धीरे उस शहर के हालात भी बदलते गए। शहर में किसी कारण से दंगे होने शुरू हो गए थे।  इस वजह से हमारा ज्यादा बाहर निकलना बंद हो गया था। हम बाहर तभी निकलते थे जब बहुत जरुरी होता था। कॉलेज तभी जाते थे जब एग्जाम देना हो। ऐसे ही समय गुजरता गया। मैं कॉलेज के फाइनल ईयर में पहुँच चूका था। फाइनल ईयर के एग्जाम भी शुरू हो चुके थे। 
एक दिन एग्जाम के बाद कॉलेज की पार्किंग में एक दोस्त ने बताया की कोई लड़की तुझसे मिलना चाहती है। मुझे ताज्जुब हुआ और मैंने हँसते हुए कहा - "मुझसे क्यों मिलना चाहती है ?मैंने तो किसी लड़की से बातचीत और दोस्ती तक नहीं किया है इतने समय से। मुझसे नहीं मिलना होगा किसी और से मिलना होगा। " लेकिन उस दोस्त ने कहा -"नहीं ,सच में मिलना चाहती है वो। "
वो मुझे ही ढूढ़ रही थी
मैंने कहा -"भाई ,तुझे मैं ही मिला आज टाँग खींचने के लिए। किसी और का नाम लेता तो सही भी लगता। " उसके बाद दूसरे दोस्त ने हँसते हुए कहा -"ये तो पता नहीं की वो तुझसे मिलना चाहती है की नहीं लेकिन वो राकेश नाम के लड़को को ही ढूढ़ रही है और उसका कहना है की उसे राकेश नाम के लड़कों से दोस्ती करना अच्छा लगता है। "
मैंने अपने एक दोस्त की तरफ इशारा करते हुए कहा -"इसे मिला दो उससे ,इसका नाम भी तो राकेश है। " 
उनमें से एक ने कहा -"ये कल ही मिल चूका है उससे। तू भी मिल ले उससे क्या पता वो तुझे ही ढूढ़ रही हो। " उन लोगों ने चुटकी लेते हुए कहा। 
मैंने कहा - "जो भी हो। वो मुझे क्यों ढूंढेगी। मैं तो तुम लोगों से ही थोड़ी बहुत बातचीत करता हूँ और किसी से मेरा हाय हेलो है नहीं। जो भी है देखा जायेगा बाद में। " उसके बाद दूसरे मुद्दों पर बात होने लगी। मुझे ये बात सोचकर अजीब तो लग रहा था की एक लड़की सिर्फ राकेश नाम के लड़कों को ढूढ़कर उनसे दोस्ती करना चाहती है। मैं उस लड़की से कभी मिला नहीं। वैसे भी वो समय दंगे का माहौल था। शहर में जगह जगह कर्फ्यू लगा हुआ था। जगह जगह पुलिस का पहरा था। किसी से मिलना जुलना लगभग बंद ही था। ऐसे हालात में मैं वो लड़की से मिलने वाली बात भूल चूका था। बहुत दिन हो गए कॉलेज के ख़त्म होने के दिन आ गए।  
वो मुझे ही ढूढ़ रही थी
एक दिन ये बात याद आयी और अचानक से ये ख्याल आया की कहीं ऐसा तो नहीं की वो सच में मुझे ही ढूंढ रही थी। मुझे उस दिन की घटना याद आयी की कैसे मैंने अपनी क्लासमेट को देखा था और उससे जुड़ी कुछ पुरानी यादें ताज़ा हो गयी थी।कैसे मैंने भावनाओं में बहकर अपने उस दोस्त को उस लड़की के किस्से सुना दिए थे और वो ऑटो वाला भी मेरी बात सुन रहा था।
वो मुझे ही ढूढ़ रही थी
कहीं ऐसा तो नहीं की उस दोस्त ने उस लड़की को जाकर कुछ कह दिया हो। कुछ क्या बहुत कुछ कह दिया हो। कुछ ज्यादा बातें अपनी तरफ से बना कर कह दिया हो। या फिर उस ऑटोवाले ने कह दिया हो जिससे बात उस लड़की के दिल पर लगी हो। हो सकता है उसे मेरे बारे में ठीक से याद ना आ रहा हो ,उसे किसी तरह से मेरा नाम पता चल गया हो और इस तरीके से वो मुझे ढूढ़ रही हो। या ये भी हो सकता है की ये सिर्फ मेरा भ्रम हो। इन दोनों घटनाओं का आपस में कोई संबंध ही ना हो। लेकिन मैं थोड़ी देर के लिए डर जरूर गया था की अगर मैं उसे मिल गया होता तो वो पता नहीं क्या करती। मुझे याद है वो हंसी मजाक जरूर करती थी लेकिन चिढ़ती भी बहुत जल्दी थी। ये तो अच्छा हुआ मैं उससे नहीं मिला।  
वो मुझे ही ढूढ़ रही थी
जो भी हो इस घटना से मुझे ये तो समझ में आ गया की कभी भी ,कहीं भी ,किसी के भी सामने किसी के भी बारे में कुछ भी नहीं बोल देना चाहिए चाहे वो सच ही क्यों ना हो। हर बात कहने का उचित समय और जगह होता है। हमें ये भी समझना चाहिए की किसके सामने कौन सी बात बोलनी चाहिए और कौन सी नहीं बोलनी चाहिए। ये बातें जीवन में हमेशा मायने रखती हैं। 
वो मुझे ही ढूढ़ रही थी

वैसे अभी भी उस घटना के बारे में सोचता हूँ तो कभी लगता है वो मेरा भ्रम था और कभी कभी लगता है वो मुझे ही ढूढ़ रही थी।   

Comments

Popular posts from this blog

वह दिन - एक सच्चा अनुभव

 सुनें 👇 उस दिन मेरे भाई ने दुकान से फ़ोन किया की वह अपना बैग घर में भूल गया है ,जल्दी से वह बैग दुकान पहुँचा दो । मैं उसका बैग लेकर घर से मोटरसाईकल पर दुकान की तरफ निकला। अभी आधी दुरी भी पार नहीं हुआ था की मोटरसाइकल की गति अपने आप धीरे होने लगी और  थोड़ी देर में मोटरसाइकिल बंद हो गयी। मैंने चेक किया तो पाया की मोटरसाइकल का पेट्रोल ख़त्म हो गया है। मैंने सोचा ये कैसे हो गया ! अभी कल तो ज्यादा पेट्रोल था ,किसी ने निकाल लिया क्या ! या फिर किसी ने इसका बहुत ज्यादा इस्तेमाल किया होगा। मुझे एक बार घर से निकलते समय देख लेना चाहिए था। अब क्या करूँ ? मेरे साथ ही ऐसा क्यों होता है ?  मोटरसाइकिल चलाना  ऐसे समय पर भगवान की याद आ ही जाती है। मैंने भी मन ही मन भगवान को याद किया और कहा हे भगवान कैसे भी ये मोटरसाइकल चालू हो जाये और मैं पेट्रोल पंप तक पहुँच जाऊँ। भगवान से ऐसे प्रार्थना करने के बाद मैंने मोटरसाइकिल को किक मार कर चालू करने की बहुत कोशिश किया लेकिन मोटरसाइकल चालू नहीं हुई। और फिर मैंने ये मान लिया की पेट्रोल ख़त्म हो चूका है मोटरसाइकल ऐसे नहीं चलने वाली।  आखिर मुझे चलना तो है ही क्योंकि पेट

व्यवहारिक जीवन और शिक्षा

सुनें 👇 एक दिन दोपहर को अपने काम से थोड़ा ब्रेक लेकर जब मैं अपनी छत की गैलरी में टहल रहा था और धुप सेंक रहा था। अब क्या है की उस दिन ठंडी ज्यादा महसूस हो रही थी। तभी मेरी नज़र आसमान में उड़ती दो पतंगों पर पड़ी। उन पतंगों को देखकर अच्छा लग रहा था। उन पतंगों को देखकर मैं सोच रहा था ,कभी मैं भी जब बच्चा था और गांव में था तो मैं पतंग उड़ाने का शौकीन था। मैंने बहुत पतंगे उड़ाई हैं कभी खरीदकर तो कभी अख़बार से बनाकर। पता नहीं अब वैसे पतंग  उड़ा पाऊँगा की नहीं। गैलरी में खड़ा होना    पतंगों को उड़ते देखते हुए यही सब सोच रहा था। तभी मेरे किराये में रहने वाली एक महिला आयी हाथ में कुछ लेकर कपडे से ढके हुए और मम्मी के बारे में पूछा तो मैंने बताया नीचे होंगी रसोई में। वो नीचे चली गयी और मैं फिर से उन पतंगों की तरफ देखने लगा। मैंने देखा एक पतंग कट गयी और हवा में आज़ाद कहीं गिरने लगी। अगर अभी मैं बच्चा होता तो वो पतंग लूटने के लिए दौड़ पड़ता। उस कटी हुई पतंग को गिरते हुए देखते हुए मुझे अपने बचपन की वो शाम याद आ गई। हाथ में पतंग  मैं अपने गांव के घर के दो तले पर से पतंग उड़ा रहा था वो भी सिलाई वाली रील से। मैंने प

अनुभव पत्र

सुनें 👉 आज मैं बहुत दिनों बाद अपने ऑफिस गया लगभग एक साल बाद इस उम्मीद में की आज मुझे मेरा एक्सपीरियंस लेटर मिल जाएगा। वैसे मै ऑफिस दोबारा कभी नहीं जाना चाहता 😓लेकिन मजबूरी है 😓क्योंकि एक साल हो गए ऑफिस छोड़े हुए😎।नियम के मुताबिक ऑफिस छोड़ने के 45 दिन के बाद  मेरे ईमेल एकाउंट मे एक्सपीरियंस लेटर आ जाना चाहिए था☝। आखिर जिंदगी के पाँच साल उस ऑफिस में दिए हैं एक्सपीरियंस लेटर तो लेना ही चाहिए। मेरा काम वैसे तो सिर्फ 10 मिनट का है लेकिन देखता हूँ कितना समय लगता है😕।  समय  फिर याद आया कुणाल को तो बताना ही भूल गया😥। हमने तय किया था की एक्सपीरियंस लेटर लेने हम साथ में जायेंगे😇  सोचा चलो कोई बात नहीं ऑफिस पहुँच कर उसको फ़ोन कर दूंगा😑। मैं भी कौन सा ये सोच कर निकला था की ऑफिस जाना है एक्सपीरियंस लेटर लेने।आया तो दूसरे काम से था जो हुआ नहीं सोचा चलो ऑफिस में भी चल के देख लेत्ते हैं😊। आखिर आज नहीं जाऊंगा तो कभी तो जाना ही है इससे अच्छा आज ही चल लेते है👌। गाड़ी में पेट्रोल भी कम है उधर रास्ते में एटीएम भी है पैसे भी निकालने है और वापस आते वक़्त पेट्रोल भी भरा लूंगा👍।  ऑफिस जाना  पैसे निकालने