Skip to main content

प्यार के फूल

सुनें -


वो वक़्त था जो गुज़र गया 

प्यार के फूल

हवा के हलके हलके मद्धम झोंके की तरह 

हम साथ मिले और नदी की बहती लहरों की तरह 

हम अलग अलग दिशा में बह गए 

कुछ अफ़साने बनकर यादों में कैद होकर रह गए 

कुछ यादों में मिलते रहते हैं 

कुछ हकीकत में दुबारा मिले और फिर से खो गए 

कुछ सपने पूरे हुए तो कुछ सपने सपने ही रह गए 

कुछ पराये अपने हो गए 

तो कुछ अपने पराये होकर रह गए 


समय के साथ हम आगे ना बढ़ सकें ऐसी कोई बात नहीं 

लेकिन कुछ जख्म ऐसे भी मिले हैं गुज़रे हुए वक़्त में 

जिनके शायद वक़्त के पास भी कोई इलाज़ नहीं 

जिसपे गुजरी है वही दर्द समझता है 

जिनपे नहीं गुजरी उन्हें इसका कोई अंदाज़ा नहीं 

उन जख्मों को सहते हुए भी हम आगे ना बढ़ सकें ऐसी भी कोई बात नहीं 


गुजारिश है ये आगे आने वाली पीढ़ियों से 

बोना है तो फूल बोओ जो हमेशा महकते रहेंगे 

कांटे नहीं जो सदियों तक चुभते रहेंगे 


आएगा एक दिन ऐसा भी ना मैं रहूँगा ना आप रहेंगे 

अगर थमा दिए हैं फूल उनके हाथों में 

तो जिंदगी हमेशा खुशगवार और महकती रहेगी 

अगर थमा दिए हैं कांटे उनके हाथों में 

तो वो सदियों तक चुभते रहेंगे 

ना वो दूसरों को सही से जीने देंगे ना खुद सही से जी पाएंगे 


अगर चुभ भी जाएँ कुछ कांटे फूलों के रखरखाव में 

तो उन्हें हम प्यार से सहेंगे 

किसी पर इसका एहसान नहीं दिखायेंगे 

अपना फ़र्ज़ समझकर भूल जायेंगे 

और खुशी से आगे बढ़ते रहेंगे 

क्यों ना हम ये तय करें की नफरत का कांटा बोना बंद करें 

प्यार के फूल खिलाएं 

भले ही कल हम रहें या ना रहें 

ये प्यार के फूल हमेशा महकते रहेंगे 


Click for English

Comments

Popular posts from this blog

वह दिन - एक सच्चा अनुभव

 सुनें 👇 उस दिन मेरे भाई ने दुकान से फ़ोन किया की वह अपना बैग घर में भूल गया है ,जल्दी से वह बैग दुकान पहुँचा दो । मैं उसका बैग लेकर घर से मोटरसाईकल पर दुकान की तरफ निकला। अभी आधी दुरी भी पार नहीं हुआ था की मोटरसाइकल की गति अपने आप धीरे होने लगी और  थोड़ी देर में मोटरसाइकिल बंद हो गयी। मैंने चेक किया तो पाया की मोटरसाइकल का पेट्रोल ख़त्म हो गया है। मैंने सोचा ये कैसे हो गया ! अभी कल तो ज्यादा पेट्रोल था ,किसी ने निकाल लिया क्या ! या फिर किसी ने इसका बहुत ज्यादा इस्तेमाल किया होगा। मुझे एक बार घर से निकलते समय देख लेना चाहिए था। अब क्या करूँ ? मेरे साथ ही ऐसा क्यों होता है ?  मोटरसाइकिल चलाना  ऐसे समय पर भगवान की याद आ ही जाती है। मैंने भी मन ही मन भगवान को याद किया और कहा हे भगवान कैसे भी ये मोटरसाइकल चालू हो जाये और मैं पेट्रोल पंप तक पहुँच जाऊँ। भगवान से ऐसे प्रार्थना करने के बाद मैंने मोटरसाइकिल को किक मार कर चालू करने की बहुत कोशिश किया लेकिन मोटरसाइकल चालू नहीं हुई। और फिर मैंने ये मान लिया की पेट्रोल ख़त्म हो चूका है मोटरसाइकल ऐसे नहीं चलने वाली।  आखिर मुझे चलना तो है ही क्योंकि पेट

व्यवहारिक जीवन और शिक्षा

सुनें 👇 एक दिन दोपहर को अपने काम से थोड़ा ब्रेक लेकर जब मैं अपनी छत की गैलरी में टहल रहा था और धुप सेंक रहा था। अब क्या है की उस दिन ठंडी ज्यादा महसूस हो रही थी। तभी मेरी नज़र आसमान में उड़ती दो पतंगों पर पड़ी। उन पतंगों को देखकर अच्छा लग रहा था। उन पतंगों को देखकर मैं सोच रहा था ,कभी मैं भी जब बच्चा था और गांव में था तो मैं पतंग उड़ाने का शौकीन था। मैंने बहुत पतंगे उड़ाई हैं कभी खरीदकर तो कभी अख़बार से बनाकर। पता नहीं अब वैसे पतंग  उड़ा पाऊँगा की नहीं। गैलरी में खड़ा होना    पतंगों को उड़ते देखते हुए यही सब सोच रहा था। तभी मेरे किराये में रहने वाली एक महिला आयी हाथ में कुछ लेकर कपडे से ढके हुए और मम्मी के बारे में पूछा तो मैंने बताया नीचे होंगी रसोई में। वो नीचे चली गयी और मैं फिर से उन पतंगों की तरफ देखने लगा। मैंने देखा एक पतंग कट गयी और हवा में आज़ाद कहीं गिरने लगी। अगर अभी मैं बच्चा होता तो वो पतंग लूटने के लिए दौड़ पड़ता। उस कटी हुई पतंग को गिरते हुए देखते हुए मुझे अपने बचपन की वो शाम याद आ गई। हाथ में पतंग  मैं अपने गांव के घर के दो तले पर से पतंग उड़ा रहा था वो भी सिलाई वाली रील से। मैंने प

अनुभव पत्र

सुनें 👉 आज मैं बहुत दिनों बाद अपने ऑफिस गया लगभग एक साल बाद इस उम्मीद में की आज मुझे मेरा एक्सपीरियंस लेटर मिल जाएगा। वैसे मै ऑफिस दोबारा कभी नहीं जाना चाहता 😓लेकिन मजबूरी है 😓क्योंकि एक साल हो गए ऑफिस छोड़े हुए😎।नियम के मुताबिक ऑफिस छोड़ने के 45 दिन के बाद  मेरे ईमेल एकाउंट मे एक्सपीरियंस लेटर आ जाना चाहिए था☝। आखिर जिंदगी के पाँच साल उस ऑफिस में दिए हैं एक्सपीरियंस लेटर तो लेना ही चाहिए। मेरा काम वैसे तो सिर्फ 10 मिनट का है लेकिन देखता हूँ कितना समय लगता है😕।  समय  फिर याद आया कुणाल को तो बताना ही भूल गया😥। हमने तय किया था की एक्सपीरियंस लेटर लेने हम साथ में जायेंगे😇  सोचा चलो कोई बात नहीं ऑफिस पहुँच कर उसको फ़ोन कर दूंगा😑। मैं भी कौन सा ये सोच कर निकला था की ऑफिस जाना है एक्सपीरियंस लेटर लेने।आया तो दूसरे काम से था जो हुआ नहीं सोचा चलो ऑफिस में भी चल के देख लेत्ते हैं😊। आखिर आज नहीं जाऊंगा तो कभी तो जाना ही है इससे अच्छा आज ही चल लेते है👌। गाड़ी में पेट्रोल भी कम है उधर रास्ते में एटीएम भी है पैसे भी निकालने है और वापस आते वक़्त पेट्रोल भी भरा लूंगा👍।  ऑफिस जाना  पैसे निकालने