Skip to main content

Viewpoint

One day I was thinking about richness and poverty. If I get more money then it will be so good. I will get rid of eight or nine hours of work. I will be able to do my daily routine according to myself. Will get up early in the morning. I will see the rising sun. I will feel the fresh air of the morning. Will be able to come to my village anytime according to my wish. Will keep visiting relatives. And if there is too much money, then I will roam around all the good places of the world. I will sleep peacefully at night. I will invest some money in good works.

Viewpoint
Desire

But one thing will always be kept in mind that I will live in a very simple way. I will live as I am today. I wake up early in the morning, do yoga and exercise, eat simple and vegetarian food. I will not spend money to show my wealth like I would not buy a car if my work is done by driving a motorcycle. I believe that money feels good in the account and not in the mind. I have seen a change in the behavior of many people because of money.

Viewpoint
show off

While thinking this, I remembered a story read in a magazine, in which a poor, battered child was eagerly looking at the precious foreign car of a Seth. Seth takes pity on that poor child and takes him to sit in the car.

On the way there is a conversation between that Seth and the child. When that child praises the car, Seth tells the child that the car is very expensive and his car is gifted to him by his elder brother.

After a while, Seth tells the child that you are thinking that if someone had given you such an expensive gift then it would have been so nice. After listening to Seth, the child says that I want to be like your elder brother and I am thinking that how can I become like your elder brother.

Viewpoint
Viewpoint

Perhaps our society today needs a similar approach as this child of the story. What do we want to be ?, what is our ability and how can we improve it? Which topic are we more interested in? What good can we do? We can understand the answers to all these questions by talking to ourselves.

But what happens is that instead of understanding ourselves, we come to the talks of others and take decisions for our lives, like if someone else is making good money in a company, then we and our family will pressurize that you also do jobs like that. . I will also accept this under the pressure of family, without thinking what I am interested in and what good I can do!

It is not necessary that your family and friends take every decision in life and they are always right. It is also not necessary that they understand every decision of yours correctly, no matter how correct your decision is. So, no matter what opinion others give about your life, listen to everyone, but the final decision should be yours even if it annoys many people.

Because your talent is yours. It has developed inside you. No one can know about you better than you. Your thinking, your strengths, your weaknesses, these only you know and understand properly. You can take opinion on any subject from others and also get help. But be it life or career, you have to take the right decision for you.


self confidence

Popular posts from this blog

वह दिन - एक सच्चा अनुभव

 सुनें 👇 उस दिन मेरे भाई ने दुकान से फ़ोन किया की वह अपना बैग घर में भूल गया है ,जल्दी से वह बैग दुकान पहुँचा दो । मैं उसका बैग लेकर घर से मोटरसाईकल पर दुकान की तरफ निकला। अभी आधी दुरी भी पार नहीं हुआ था की मोटरसाइकल की गति अपने आप धीरे होने लगी और  थोड़ी देर में मोटरसाइकिल बंद हो गयी। मैंने चेक किया तो पाया की मोटरसाइकल का पेट्रोल ख़त्म हो गया है। मैंने सोचा ये कैसे हो गया ! अभी कल तो ज्यादा पेट्रोल था ,किसी ने निकाल लिया क्या ! या फिर किसी ने इसका बहुत ज्यादा इस्तेमाल किया होगा। मुझे एक बार घर से निकलते समय देख लेना चाहिए था। अब क्या करूँ ? मेरे साथ ही ऐसा क्यों होता है ?  मोटरसाइकिल चलाना  ऐसे समय पर भगवान की याद आ ही जाती है। मैंने भी मन ही मन भगवान को याद किया और कहा हे भगवान कैसे भी ये मोटरसाइकल चालू हो जाये और मैं पेट्रोल पंप तक पहुँच जाऊँ। भगवान से ऐसे प्रार्थना करने के बाद मैंने मोटरसाइकिल को किक मार कर चालू करने की बहुत कोशिश किया लेकिन मोटरसाइकल चालू नहीं हुई। और फिर मैंने ये मान लिया की पेट्रोल ख़त्म हो चूका है मोटरसाइकल ऐसे नहीं चलने वाली।  आखिर मुझे चलना तो है ही क्योंकि पेट

व्यवहारिक जीवन और शिक्षा

सुनें 👇 एक दिन दोपहर को अपने काम से थोड़ा ब्रेक लेकर जब मैं अपनी छत की गैलरी में टहल रहा था और धुप सेंक रहा था। अब क्या है की उस दिन ठंडी ज्यादा महसूस हो रही थी। तभी मेरी नज़र आसमान में उड़ती दो पतंगों पर पड़ी। उन पतंगों को देखकर अच्छा लग रहा था। उन पतंगों को देखकर मैं सोच रहा था ,कभी मैं भी जब बच्चा था और गांव में था तो मैं पतंग उड़ाने का शौकीन था। मैंने बहुत पतंगे उड़ाई हैं कभी खरीदकर तो कभी अख़बार से बनाकर। पता नहीं अब वैसे पतंग  उड़ा पाऊँगा की नहीं। गैलरी में खड़ा होना    पतंगों को उड़ते देखते हुए यही सब सोच रहा था। तभी मेरे किराये में रहने वाली एक महिला आयी हाथ में कुछ लेकर कपडे से ढके हुए और मम्मी के बारे में पूछा तो मैंने बताया नीचे होंगी रसोई में। वो नीचे चली गयी और मैं फिर से उन पतंगों की तरफ देखने लगा। मैंने देखा एक पतंग कट गयी और हवा में आज़ाद कहीं गिरने लगी। अगर अभी मैं बच्चा होता तो वो पतंग लूटने के लिए दौड़ पड़ता। उस कटी हुई पतंग को गिरते हुए देखते हुए मुझे अपने बचपन की वो शाम याद आ गई। हाथ में पतंग  मैं अपने गांव के घर के दो तले पर से पतंग उड़ा रहा था वो भी सिलाई वाली रील से। मैंने प

अनुभव पत्र

सुनें 👉 आज मैं बहुत दिनों बाद अपने ऑफिस गया लगभग एक साल बाद इस उम्मीद में की आज मुझे मेरा एक्सपीरियंस लेटर मिल जाएगा। वैसे मै ऑफिस दोबारा कभी नहीं जाना चाहता 😓लेकिन मजबूरी है 😓क्योंकि एक साल हो गए ऑफिस छोड़े हुए😎।नियम के मुताबिक ऑफिस छोड़ने के 45 दिन के बाद  मेरे ईमेल एकाउंट मे एक्सपीरियंस लेटर आ जाना चाहिए था☝। आखिर जिंदगी के पाँच साल उस ऑफिस में दिए हैं एक्सपीरियंस लेटर तो लेना ही चाहिए। मेरा काम वैसे तो सिर्फ 10 मिनट का है लेकिन देखता हूँ कितना समय लगता है😕।  समय  फिर याद आया कुणाल को तो बताना ही भूल गया😥। हमने तय किया था की एक्सपीरियंस लेटर लेने हम साथ में जायेंगे😇  सोचा चलो कोई बात नहीं ऑफिस पहुँच कर उसको फ़ोन कर दूंगा😑। मैं भी कौन सा ये सोच कर निकला था की ऑफिस जाना है एक्सपीरियंस लेटर लेने।आया तो दूसरे काम से था जो हुआ नहीं सोचा चलो ऑफिस में भी चल के देख लेत्ते हैं😊। आखिर आज नहीं जाऊंगा तो कभी तो जाना ही है इससे अच्छा आज ही चल लेते है👌। गाड़ी में पेट्रोल भी कम है उधर रास्ते में एटीएम भी है पैसे भी निकालने है और वापस आते वक़्त पेट्रोल भी भरा लूंगा👍।  ऑफिस जाना  पैसे निकालने