Skip to main content

Posts

Showing posts from October, 2023

When will the Ravana of the mind burn? (Poem)

Listen - When will the Ravana of the mind burn? Effigies are burnt every year Every year the mind gets amused after seeing the burning effigies. But when will the mind change after being inspired by goodness? When will the Ravana of the mind burn? Fairs are held every year by quarreling with loved ones wandering alone in the crowd When will this rift with loved ones end? When will the Ravana of the mind burn? You can also watch this video 👇 When will the Ravana of the mind burn? (Poem) In English Ravana was also hardworking, brave and scholar. But he was a renowned devil because of his evil intentions and evil deeds. When will today's scholar, hardworking and brave youth move forward with good intentions and good deeds? When will the Ravana of the mind burn? You see shortcomings in others, you feel bad about the foolishness of others. When will you recognize the goodness and flaws within yourself? When will Hridaya Ka Ram wake up? When will the Ravana of the mind burn? You fight i

मन का रावण कब जलेगा (कविता)

मन का रावण कब जलेगा  जलते हैं हर साल पुतले  देखकर जिसको मन तो बहले  लेकिन अच्छाई से प्रेरित होकर मन कब बदलेगा  मन का रावण कब जलेगा  आप यह वीडियो भी देख सकते हैं 👇 मन का रावण कब जलेगा (कविता) वीडियो लगते हैं हर साल मेले  अपनों से मनमुटाव करके  घूमते हैं भीड़ में अकेले  अपनों से ये मनमुटाव कब मिटेगा  मन का रावण कब जलेगा  रावण भी मेहनती था ,बहादुर था ,विद्वान था  लेकिन वो बुरी नियत और बुरे कर्मों के कारण एक प्रख्यात शैतान था  आज का विद्वान ,मेहनती और बहादुर जवान अच्छी नियत और अच्छे कर्मों के लिए आगे कब बढ़ेगा  मन का रावण कब जलेगा  देखते हो दूसरों में कमियां ,बुरी लगती हैं दूसरों की नादानियाँ  अपने अंदर की कब पहचानोगे अच्छाइयाँ और खामियाँ  हृदय का राम कब जगेगा  मन का रावण कब जलेगा  लड़ते हो राम के नाम पर  राम के चरित्र में त्याग था ,मर्यादा थी ,सादापन ,मानवता और प्रेम की भावना थी  राम का चरित्र कब समझोगे  जिसने अपनों के लिए महल छोड़ खुशी से वनवास अपना लिया  वो अपने नाम पर फैलाये नफरत से खुश होगा ये हमने कैसे सोच लिया  ऊपर से राम का आवरण है अंदर से रावण का आचरण है  इंसान राम का आचरण कब समझेगा