Skip to main content

Why are Indian consumers adopting electric two-wheelers?

Indian consumers embrace of two wheelers

Listen 


Friends, as we all know and understand that change is an inevitable rule of this world and it will keep happening as per time and need. If we talk about bikes, then the problem of pollution and continuously increasing prices of petrol and diesel is becoming a problem. In such a situation, the need and demand of time that is understandable is that of electric bike. The simple thing is that the way the prices of petrol and diesel are increasing and the way it is affecting people's budget, people will think about some other option and prefer to adopt it which is better than the first one. . Due to these problems today, people are more likely to adopt electric bikes.

Why are Indian consumers adopting electric two-wheelers?

So let us understand the reasons why Indian consumers are adopting electric vehicles -

1 Battery Performance – Good battery performance is a very important feature of electric vehicles which makes it different and special from petrol and diesel vehicles. The battery of a good electric vehicle covers a distance of about 75 to 100 kilometers on a single charge. If it is compared with a petrol vehicle then it will be cheaper.

Why are Indian consumers adopting electric two-wheelers?

2 Looks and Charging Infrastructure – As today's people especially the youth are attracted towards the attractive looks of any vehicle. And if the charging infrastructure is also good along with the looks, then it is even better. Good charging infrastructure means that the battery should be charged fast and the charging port should be user friendly so that it is convenient to charge the bike whether at home or outside.

Why are Indian consumers adopting electric two-wheelers?

3 Braking System – Electric vehicles have braking systems like ABS (Anti-Lock Braking System), Regenerative Braking or CBS (Combined Braking System) which makes it much easier to control two wheelers. Especially at a time when the road is challenging and in bad condition and sometimes such a situation arises that the vehicle has to be stopped suddenly.

Why are Indian consumers adopting electric two-wheelers?

4 Motor power and torque - When it comes to challenging places and conditions, the motor of the vehicle should have power and torque which is effective in handling those conditions and can also handle different loads. And this is the specialty of today's electric vehicles.

5 Smart Features – These electric vehicles offer smartphone connectivity options so you can know and understand about features like mileage range, battery status, motor capacity and even control the vehicle remotely using an app.

Why are Indian consumers adopting electric two-wheelers?

6 Build Quality and Durability – These electric vehicles have strong frame quality, durable components and weather resistant features so that the vehicle can withstand the hazards of daily use and various weather conditions. Apart from this, electric vehicle companies also provide warranty and service center facilities on the vehicle.

Why are Indian consumers adopting electric two-wheelers?

Due to the reasons mentioned above, electric bike is a safe, convenient, comfortable and the reason for the attraction of Indian consumers towards these vehicles.

Comments

Popular posts from this blog

वह दिन - एक सच्चा अनुभव

 सुनें 👇 उस दिन मेरे भाई ने दुकान से फ़ोन किया की वह अपना बैग घर में भूल गया है ,जल्दी से वह बैग दुकान पहुँचा दो । मैं उसका बैग लेकर घर से मोटरसाईकल पर दुकान की तरफ निकला। अभी आधी दुरी भी पार नहीं हुआ था की मोटरसाइकल की गति अपने आप धीरे होने लगी और  थोड़ी देर में मोटरसाइकिल बंद हो गयी। मैंने चेक किया तो पाया की मोटरसाइकल का पेट्रोल ख़त्म हो गया है। मैंने सोचा ये कैसे हो गया ! अभी कल तो ज्यादा पेट्रोल था ,किसी ने निकाल लिया क्या ! या फिर किसी ने इसका बहुत ज्यादा इस्तेमाल किया होगा। मुझे एक बार घर से निकलते समय देख लेना चाहिए था। अब क्या करूँ ? मेरे साथ ही ऐसा क्यों होता है ?  मोटरसाइकिल चलाना  ऐसे समय पर भगवान की याद आ ही जाती है। मैंने भी मन ही मन भगवान को याद किया और कहा हे भगवान कैसे भी ये मोटरसाइकल चालू हो जाये और मैं पेट्रोल पंप तक पहुँच जाऊँ। भगवान से ऐसे प्रार्थना करने के बाद मैंने मोटरसाइकिल को किक मार कर चालू करने की बहुत कोशिश किया लेकिन मोटरसाइकल चालू नहीं हुई। और फिर मैंने ये मान लिया की पेट्रोल ख़त्म हो चूका है मोटरसाइकल ऐसे नहीं चलने वाली।  आखिर मुझे चलना तो है ही क्योंकि पेट

व्यवहारिक जीवन और शिक्षा

सुनें 👇 एक दिन दोपहर को अपने काम से थोड़ा ब्रेक लेकर जब मैं अपनी छत की गैलरी में टहल रहा था और धुप सेंक रहा था। अब क्या है की उस दिन ठंडी ज्यादा महसूस हो रही थी। तभी मेरी नज़र आसमान में उड़ती दो पतंगों पर पड़ी। उन पतंगों को देखकर अच्छा लग रहा था। उन पतंगों को देखकर मैं सोच रहा था ,कभी मैं भी जब बच्चा था और गांव में था तो मैं पतंग उड़ाने का शौकीन था। मैंने बहुत पतंगे उड़ाई हैं कभी खरीदकर तो कभी अख़बार से बनाकर। पता नहीं अब वैसे पतंग  उड़ा पाऊँगा की नहीं। गैलरी में खड़ा होना    पतंगों को उड़ते देखते हुए यही सब सोच रहा था। तभी मेरे किराये में रहने वाली एक महिला आयी हाथ में कुछ लेकर कपडे से ढके हुए और मम्मी के बारे में पूछा तो मैंने बताया नीचे होंगी रसोई में। वो नीचे चली गयी और मैं फिर से उन पतंगों की तरफ देखने लगा। मैंने देखा एक पतंग कट गयी और हवा में आज़ाद कहीं गिरने लगी। अगर अभी मैं बच्चा होता तो वो पतंग लूटने के लिए दौड़ पड़ता। उस कटी हुई पतंग को गिरते हुए देखते हुए मुझे अपने बचपन की वो शाम याद आ गई। हाथ में पतंग  मैं अपने गांव के घर के दो तले पर से पतंग उड़ा रहा था वो भी सिलाई वाली रील से। मैंने प

अनुभव पत्र

सुनें 👉 आज मैं बहुत दिनों बाद अपने ऑफिस गया लगभग एक साल बाद इस उम्मीद में की आज मुझे मेरा एक्सपीरियंस लेटर मिल जाएगा। वैसे मै ऑफिस दोबारा कभी नहीं जाना चाहता 😓लेकिन मजबूरी है 😓क्योंकि एक साल हो गए ऑफिस छोड़े हुए😎।नियम के मुताबिक ऑफिस छोड़ने के 45 दिन के बाद  मेरे ईमेल एकाउंट मे एक्सपीरियंस लेटर आ जाना चाहिए था☝। आखिर जिंदगी के पाँच साल उस ऑफिस में दिए हैं एक्सपीरियंस लेटर तो लेना ही चाहिए। मेरा काम वैसे तो सिर्फ 10 मिनट का है लेकिन देखता हूँ कितना समय लगता है😕।  समय  फिर याद आया कुणाल को तो बताना ही भूल गया😥। हमने तय किया था की एक्सपीरियंस लेटर लेने हम साथ में जायेंगे😇  सोचा चलो कोई बात नहीं ऑफिस पहुँच कर उसको फ़ोन कर दूंगा😑। मैं भी कौन सा ये सोच कर निकला था की ऑफिस जाना है एक्सपीरियंस लेटर लेने।आया तो दूसरे काम से था जो हुआ नहीं सोचा चलो ऑफिस में भी चल के देख लेत्ते हैं😊। आखिर आज नहीं जाऊंगा तो कभी तो जाना ही है इससे अच्छा आज ही चल लेते है👌। गाड़ी में पेट्रोल भी कम है उधर रास्ते में एटीएम भी है पैसे भी निकालने है और वापस आते वक़्त पेट्रोल भी भरा लूंगा👍।  ऑफिस जाना  पैसे निकालने