Skip to main content

घर पर दवा पहुंचाने की सुविधा -जरुरत और ध्यान रखने वाली बातें

सुनें 👉

आज के दौर में जब की हर वो चीज़ जिसकी आप खरीदारी करना चाहते हैं आप के पास विकल्प उपलब्ध है की आप उसे खुद बाजार जाकर खरीदना चाहते हैं या अपने स्मार्टफोन से या किसी भी तरह से इंटरनेट के माध्यम से अपने घर पर मंगाना चाहते हैं। ये आपके ऊपर निर्भर है। और होम डिलीवरी का ये विकल्प काफी चल भी रहा है आज के दौर में। ऐसे में दवाओं को मरीजों या सही लोगों तक पहुंचाने तक के काम में ये विकल्प यानि की दवाओं की होम डिलीवरी काफी मददगार और सुविधाजनक हो सकती है और इस विकल्प के ऊपर पहल भी की जा चुकी है।

घर पर दवा पहुंचाने की सुविधा -जरुरत और ध्यान रखने वाली बातें

घर पर दवा पहुंचाने की सुविधा की जरुरत क्यों है - आजकल की जीवनशैली के कारण ज्यादातर लोगों में छोटी मोटी बीमारी और शरीर के किसी भी हिस्से में दर्द होना एक साधारण सी बात लगती है। ऐसे हालातों में कुछ दवाओं का घर में हमेशा मौजूद रहना बहुत जरूरी हो गया है। कुछ दवाएँ एक समय बाद ख़त्म हो जाती हैं। कुछ दवाओं को एक समय तक ही इस्तेमाल किया जा सकता है दिए गए समय के बाद उस दवा का इस्तेमाल खतरनाक साबित हो सकता है। ऐसे हालातों में हमेशा दवाओं को घर पर रखने के लिए मंगाने की जरूरत होती ही है। आजकल लोग जिस तरह से व्यस्त जीवनशैली को अपना चुके हैं उसकी वजह से वो बार बार मेडिकल के चक्कर लगाना पसंद नहीं करेंगे। कही कही तो ये भी देखने में आता है की मरीज किसी शारीरिक समस्या या दर्द से परेशान होता है लेकिन वो इस हालत में नहीं होता की खुद जाकर डॉक्टर को दिखाकर और मेडिकल स्टोर जाकर अपनी दवा ले सके। और कभी कभी उसके आसपास ऐसे लोग भी नहीं होते की उसकी मदद कर सकें। क्योंकि आजकल सभी व्यस्त होते हैं अपने काम में कह लीजिये या रोजगार में कह लीजिये। ऐसे हालात में मरीज़ों व जरुरतमंदो के लिए दवाओं की होम डिलीवरी काफी मददगार और सुविधाजनक हो सकती है। वैसे भी जब आज के समय में लोग हर छोटी मोटी चीज़ होम डिलीवरी की सुविधा से मंगाना पसंद करने लगे हो तो ऐसे में दवाओं की होम डिलीवरी कोई बड़ी बात नहीं लगती है। कोरोना महामारी के बाद तो अन्य ऑनलाइन सेवाओं के साथ दवाओं की होम डिलीवरी की सुविधा की मांग बढ़ गयी है .

हमारे देश में कुछ जगहें ऐसी भी हैं जहाँ मेडिकल स्टोर या तो उपलब्ध नहीं हैं और अगर उपलब्ध भी हैं तो इतनी दूर हैं की मरीज़ का या जरूरतमंद का वहां हमेशा समय पर पहुंचना और दवा लाना बहुत मुश्किल होता है। ऐसे में दवाओं की होम डिलीवरी का विकल्प बहुत सुविधाजनक हो सकता है। 

घर पर दवा पहुंचाने का विकल्प सुविधाजनक तो है लेकिन कुछ बातों पर गौर करना व सावधानी बरतना भी जरुरी है - 

डॉक्टर की सलाह जरूर लें - बात अगर दवाओं को मंगाने की है तो डॉक्टर की सलाह लेकर ही मंगाएं क्योंकि भले ही आप ऑनलाइन दवाओं के बारे में काफी कुछ देख सकते हैं और समझ सकते हैं लेकिन दवाइयां अन्य चीज़ों की तरह नहीं होती की आपने अपने जरूरत के हिसाब से देखा , कीमत का आकलन किया, रिव्यु देखे और मंगा लिया। आपको कौन सी दवाई कितनी मात्रा में लेनी चाहिए इसका सही से निर्णय तो डॉक्टर की कर सकते हैं। 

सही और भरोसेमंद वेबसाइट चुनें - दवाइयां मंगाने के लिए सही और भरोसेमंद वेबसाइट चुनें क्योंकि वेबसाइट की दुनिया जितनी आकर्षक और सुविधाजनक है उतनी ही भ्रम में डालने वाली भी हो सकती है। आजकल बहुत सारी फ़र्ज़ी वेबसाइटों का जाल इंटरनेट की दुनिया में फैला हुआ है जिसमें आप उन वेबसाइटों की आकर्षक डिज़ाइन और ऑफर देखकर ऑनलाइन पेमेंट कर सकते हैं क्योंकि उनमे कैश ऑन डिलीवरी का विकल्प नहीं होता लेकिन ऑफर और रिव्यु इतने आकर्षक होते हैं की आप ऑनलाइन पेमेंट कर ही देंगे। कई वेबसाइट ऐसी भी हो सकती हैं जो किसी असली दवा का हूबहू कॉपी करके फ़र्ज़ी दवा बेच सकती हैं। 

कस्टमर केयर की मदद भी जरूर लें - कोई भी ऐसी वेबसाइट जो आप तक सुविधाओं को पहुँचाती है उसका अपने उपभोक्ताओं के संदेहों को दूर करने के लिए और सवालों के जवाब देने के लिए कस्टमर केयर नंबर या चैट की सुविधा जरूर देती हैं। इसलिए ये उचित होगा की अगर आप ऑनलाइन दवा आर्डर कर रहे हैं तो पहले  कस्टमर केयर में फ़ोन करके या चैट करके दवा से जुड़ी सारी जानकारी लें।    

इसके अलावा ये भी ध्यान रखें की जो दवाइयाँ आपने ऑनलाइन आर्डर करके मंगाई हैं वो वही दवाइयां हैं की नहीं या बदल तो नहीं गयी हैं। डॉक्टर की पर्ची से देखकर चेक करें और उचित पायी जाने पर ही उन दवाओं का सेवन करें। मंगाई गई दवाओं का बिल लेना ना भूले ताकि गलत दवाओं के मामले में आप रिक्लेम कर सकें। 

घर पर दवा पहुंचाने की सुविधा -जरुरत और ध्यान रखने वाली बातें

बताई गयी बातों को ध्यान में रखकर और व्यवहार में लाकर आप घर पर दवा पहुंचाने की सुविधा का सही लाभ उठा सकते हैं। या आप अगर  किसी भी तरीके से घर पर दवा पहुंचाने की सुविधा का लाभ लेना चाहते हैं तो ऊपर बताई गयी बातें और उससे सम्बंधित बातों को ध्यान में रखकर सही और सुरक्षित तरीके से लाभ उठा सकते हैं।  


Comments

Popular posts from this blog

वह दिन - एक सच्चा अनुभव

 सुनें 👇 उस दिन मेरे भाई ने दुकान से फ़ोन किया की वह अपना बैग घर में भूल गया है ,जल्दी से वह बैग दुकान पहुँचा दो । मैं उसका बैग लेकर घर से मोटरसाईकल पर दुकान की तरफ निकला। अभी आधी दुरी भी पार नहीं हुआ था की मोटरसाइकल की गति अपने आप धीरे होने लगी और  थोड़ी देर में मोटरसाइकिल बंद हो गयी। मैंने चेक किया तो पाया की मोटरसाइकल का पेट्रोल ख़त्म हो गया है। मैंने सोचा ये कैसे हो गया ! अभी कल तो ज्यादा पेट्रोल था ,किसी ने निकाल लिया क्या ! या फिर किसी ने इसका बहुत ज्यादा इस्तेमाल किया होगा। मुझे एक बार घर से निकलते समय देख लेना चाहिए था। अब क्या करूँ ? मेरे साथ ही ऐसा क्यों होता है ?  मोटरसाइकिल चलाना  ऐसे समय पर भगवान की याद आ ही जाती है। मैंने भी मन ही मन भगवान को याद किया और कहा हे भगवान कैसे भी ये मोटरसाइकल चालू हो जाये और मैं पेट्रोल पंप तक पहुँच जाऊँ। भगवान से ऐसे प्रार्थना करने के बाद मैंने मोटरसाइकिल को किक मार कर चालू करने की बहुत कोशिश किया लेकिन मोटरसाइकल चालू नहीं हुई। और फिर मैंने ये मान लिया की पेट्रोल ख़त्म हो चूका है मोटरसाइकल ऐसे नहीं चलने वाली।  आखिर मुझे चलना तो है ही क्योंकि पेट

व्यवहारिक जीवन और शिक्षा

सुनें 👇 एक दिन दोपहर को अपने काम से थोड़ा ब्रेक लेकर जब मैं अपनी छत की गैलरी में टहल रहा था और धुप सेंक रहा था। अब क्या है की उस दिन ठंडी ज्यादा महसूस हो रही थी। तभी मेरी नज़र आसमान में उड़ती दो पतंगों पर पड़ी। उन पतंगों को देखकर अच्छा लग रहा था। उन पतंगों को देखकर मैं सोच रहा था ,कभी मैं भी जब बच्चा था और गांव में था तो मैं पतंग उड़ाने का शौकीन था। मैंने बहुत पतंगे उड़ाई हैं कभी खरीदकर तो कभी अख़बार से बनाकर। पता नहीं अब वैसे पतंग  उड़ा पाऊँगा की नहीं। गैलरी में खड़ा होना    पतंगों को उड़ते देखते हुए यही सब सोच रहा था। तभी मेरे किराये में रहने वाली एक महिला आयी हाथ में कुछ लेकर कपडे से ढके हुए और मम्मी के बारे में पूछा तो मैंने बताया नीचे होंगी रसोई में। वो नीचे चली गयी और मैं फिर से उन पतंगों की तरफ देखने लगा। मैंने देखा एक पतंग कट गयी और हवा में आज़ाद कहीं गिरने लगी। अगर अभी मैं बच्चा होता तो वो पतंग लूटने के लिए दौड़ पड़ता। उस कटी हुई पतंग को गिरते हुए देखते हुए मुझे अपने बचपन की वो शाम याद आ गई। हाथ में पतंग  मैं अपने गांव के घर के दो तले पर से पतंग उड़ा रहा था वो भी सिलाई वाली रील से। मैंने प

अनुभव पत्र

सुनें 👉 आज मैं बहुत दिनों बाद अपने ऑफिस गया लगभग एक साल बाद इस उम्मीद में की आज मुझे मेरा एक्सपीरियंस लेटर मिल जाएगा। वैसे मै ऑफिस दोबारा कभी नहीं जाना चाहता 😓लेकिन मजबूरी है 😓क्योंकि एक साल हो गए ऑफिस छोड़े हुए😎।नियम के मुताबिक ऑफिस छोड़ने के 45 दिन के बाद  मेरे ईमेल एकाउंट मे एक्सपीरियंस लेटर आ जाना चाहिए था☝। आखिर जिंदगी के पाँच साल उस ऑफिस में दिए हैं एक्सपीरियंस लेटर तो लेना ही चाहिए। मेरा काम वैसे तो सिर्फ 10 मिनट का है लेकिन देखता हूँ कितना समय लगता है😕।  समय  फिर याद आया कुणाल को तो बताना ही भूल गया😥। हमने तय किया था की एक्सपीरियंस लेटर लेने हम साथ में जायेंगे😇  सोचा चलो कोई बात नहीं ऑफिस पहुँच कर उसको फ़ोन कर दूंगा😑। मैं भी कौन सा ये सोच कर निकला था की ऑफिस जाना है एक्सपीरियंस लेटर लेने।आया तो दूसरे काम से था जो हुआ नहीं सोचा चलो ऑफिस में भी चल के देख लेत्ते हैं😊। आखिर आज नहीं जाऊंगा तो कभी तो जाना ही है इससे अच्छा आज ही चल लेते है👌। गाड़ी में पेट्रोल भी कम है उधर रास्ते में एटीएम भी है पैसे भी निकालने है और वापस आते वक़्त पेट्रोल भी भरा लूंगा👍।  ऑफिस जाना  पैसे निकालने