Skip to main content

दृष्टिकोण

सुनें 👇



एक दिन ऐसे ही अमीरी और गरीबी के बारे में सोच रहा था। अगर मेरे पास ज्यादा पैसे आ जाएँ तो कितना अच्छा हो जायेगा। आठ या नौ घंटे की नौकरी से छुटकारा मिल जायेगा। अपने  हिसाब से अपनी दिनचर्या कर सकूंगा। सुबह जल्दी उठूंगा। उगते सूरज को देखूंगा। सुबह की ताज़ी हवा को महसूस करूँगा। कभी भी अपने हिसाब से अपने गांव आ जा सकूंगा। रिश्तेदारों से मिलता रहूँगा। और अगर बहुत ज्यादा पैसे आ गए तो दुनिया की सारी अच्छी जगहों पर घूम के आऊंगा। रात को सुकून से पूरी नींद सोऊंगा। कुछ पैसे मैं अच्छे कामों में लगाऊंगा। 

दृष्टिकोण
तमन्ना

लेकिन एक बात का हमेशा ध्यान रखूँगा की मैं बिलकुल साधारण तरीके से जीऊंगा।  मैं वैसे ही रहूँगा जैसे आज रह रहा हूँ। मैं सुबह जल्दी उठता हूँ ,योग और कसरत करता हूँ ,सादा और शाकाहारी भोजन करता हूँ। अपनी अमीरी दिखाने के लिए फ़िज़ूलखर्च बिलकुल नहीं करूँगा जैसे अगर मेरा काम मोटरसाइकिल चलाने से हो जाता है तो मैं कार नहीं खरीदूंगा। मेरा मानना है की पैसा अकाउंट में ही अच्छा लगता है दिमाग में नहीं। मैंने पैसे की वजह से बहुत लोगों के व्यवहार में बदलाव देखा है। 

दृष्टिकोण
दिखावा 

यही सोचते-सोचते मुझे एक मैगज़ीन में पढ़ी हुई कहानी याद आ गयी जिसमे एक गरीब ,फटेहाल बच्चा बड़ी उत्सुकता से एक सेठ की कीमती विदेशी कार को निहार रहा था। सेठ को उस गरीब बच्चे पर दया आती है और वो उस बच्चे को कार में बिठा कर घुमाने ले जाता है। 

रास्ते में उस सेठ और बच्चे में बातचीत होती है। जब वह बच्चा कार की तारीफ करता है तब सेठ उस बच्चे को बताता है की कार बहुत महँगी है और ये कार उसे उसके बड़े भाई ने तोहफे में दिया है। 

थोड़ी देर बाद सेठ उस बच्चे से कहता है की तुम यही सोच रहे हो न की काश कोई तुम्हे भी ऐसा महँगा तोहफा देता तो कितना अच्छा होता। सेठ की बात सुनकर बच्चा कहता है की नहीं मैं तो आपके बड़े भाई की तरह बनना चाहता हूँ और यही सोच रहा हूँ की आपके बड़े भाई की तरह कैसे बन सकता हूँ। 

दृष्टिकोण
दृष्टिकोण

शायद आज हमारे समाज को ऐसे ही दृष्टिकोण की जरुरत है जैसे कहानी के इस बच्चे की है। हम क्या बनना चाहते हैं ?, हमारी काबिलियत क्या है और उसे कैसे निखार सकते हैं ? हमारी किस विषय में ज्यादा रूचि है ? हम क्या अच्छा कर सकते हैं ? इन सब सवालो के जवाब हम खुद से बात करके खुद ही समझ सकते हैं।

लेकिन होता ये है की हम अपने आप को समझने के बजाय दूसरों की बातों में आकर अपने ज़िन्दगी के फैसले लेते हैं जैसे कोई और किसी कंपनी में अच्छे पैसे कमा रहा है तो हम और हमारे परिवार वाले ये दबाव डालेंगे की तुम भी उसके जैसे जॉब करो। मैं परिवार के दबाव में आकर ये बात मान भी जाऊंगा ये सोचे बगैर की मेरी किसमें रूचि है और मैं क्या अच्छा कर सकता हूँ !

जरुरी नहीं की ज़िन्दगी के हर फैसले आपके परिवाले और दोस्त ही लें और वो हमेशा सही ही हों। ये भी जरुरी नहीं की वो आपके हर फैसले को सही समझें भले ही आपका फैसला कितना ही सही हो। इसलिए आपकी ज़िन्दगी के बारे में कोई कितनी भी राय दे ,सबकी सुने लेकिन आखरी फैसला आपका होना चाहिए चाहे इससे कई लोग नाराज़ भी हों।  

क्योंकि आपका हुनर आपका है। ये आपके अंदर विकसित हुआ है। आपके बारे में आपके अलावा कोई भी अच्छे से नहीं जान सकता है। आपकी सोच ,आपकी अच्छाइयां ,आपकी कमजोरियाँ ये सिर्फ सही से आप जानते है और समझते हैं। दूसरों से आप किसी विषय पर राय ले सकते हैं और मदद भी ले सकते हैं। लेकिन जीवन हो या करियर आप के लिए सही फैसला तो आपको ही लेना पड़ेगा। 

दृष्टिकोण
खुद पर भरोसा

Comments

Popular posts from this blog

वह दिन - एक सच्चा अनुभव

 सुनें 👇 उस दिन मेरे भाई ने दुकान से फ़ोन किया की वह अपना बैग घर में भूल गया है ,जल्दी से वह बैग दुकान पहुँचा दो । मैं उसका बैग लेकर घर से मोटरसाईकल पर दुकान की तरफ निकला। अभी आधी दुरी भी पार नहीं हुआ था की मोटरसाइकल की गति अपने आप धीरे होने लगी और  थोड़ी देर में मोटरसाइकिल बंद हो गयी। मैंने चेक किया तो पाया की मोटरसाइकल का पेट्रोल ख़त्म हो गया है। मैंने सोचा ये कैसे हो गया ! अभी कल तो ज्यादा पेट्रोल था ,किसी ने निकाल लिया क्या ! या फिर किसी ने इसका बहुत ज्यादा इस्तेमाल किया होगा। मुझे एक बार घर से निकलते समय देख लेना चाहिए था। अब क्या करूँ ? मेरे साथ ही ऐसा क्यों होता है ?  मोटरसाइकिल चलाना  ऐसे समय पर भगवान की याद आ ही जाती है। मैंने भी मन ही मन भगवान को याद किया और कहा हे भगवान कैसे भी ये मोटरसाइकल चालू हो जाये और मैं पेट्रोल पंप तक पहुँच जाऊँ। भगवान से ऐसे प्रार्थना करने के बाद मैंने मोटरसाइकिल को किक मार कर चालू करने की बहुत कोशिश किया लेकिन मोटरसाइकल चालू नहीं हुई। और फिर मैंने ये मान लिया की पेट्रोल ख़त्म हो चूका है मोटरसाइकल ऐसे नहीं चलने वाली।  आखिर मुझे चलना तो है ही क्योंकि पेट

व्यवहारिक जीवन और शिक्षा

सुनें 👇 एक दिन दोपहर को अपने काम से थोड़ा ब्रेक लेकर जब मैं अपनी छत की गैलरी में टहल रहा था और धुप सेंक रहा था। अब क्या है की उस दिन ठंडी ज्यादा महसूस हो रही थी। तभी मेरी नज़र आसमान में उड़ती दो पतंगों पर पड़ी। उन पतंगों को देखकर अच्छा लग रहा था। उन पतंगों को देखकर मैं सोच रहा था ,कभी मैं भी जब बच्चा था और गांव में था तो मैं पतंग उड़ाने का शौकीन था। मैंने बहुत पतंगे उड़ाई हैं कभी खरीदकर तो कभी अख़बार से बनाकर। पता नहीं अब वैसे पतंग  उड़ा पाऊँगा की नहीं। गैलरी में खड़ा होना    पतंगों को उड़ते देखते हुए यही सब सोच रहा था। तभी मेरे किराये में रहने वाली एक महिला आयी हाथ में कुछ लेकर कपडे से ढके हुए और मम्मी के बारे में पूछा तो मैंने बताया नीचे होंगी रसोई में। वो नीचे चली गयी और मैं फिर से उन पतंगों की तरफ देखने लगा। मैंने देखा एक पतंग कट गयी और हवा में आज़ाद कहीं गिरने लगी। अगर अभी मैं बच्चा होता तो वो पतंग लूटने के लिए दौड़ पड़ता। उस कटी हुई पतंग को गिरते हुए देखते हुए मुझे अपने बचपन की वो शाम याद आ गई। हाथ में पतंग  मैं अपने गांव के घर के दो तले पर से पतंग उड़ा रहा था वो भी सिलाई वाली रील से। मैंने प

अनुभव पत्र

सुनें 👉 आज मैं बहुत दिनों बाद अपने ऑफिस गया लगभग एक साल बाद इस उम्मीद में की आज मुझे मेरा एक्सपीरियंस लेटर मिल जाएगा। वैसे मै ऑफिस दोबारा कभी नहीं जाना चाहता 😓लेकिन मजबूरी है 😓क्योंकि एक साल हो गए ऑफिस छोड़े हुए😎।नियम के मुताबिक ऑफिस छोड़ने के 45 दिन के बाद  मेरे ईमेल एकाउंट मे एक्सपीरियंस लेटर आ जाना चाहिए था☝। आखिर जिंदगी के पाँच साल उस ऑफिस में दिए हैं एक्सपीरियंस लेटर तो लेना ही चाहिए। मेरा काम वैसे तो सिर्फ 10 मिनट का है लेकिन देखता हूँ कितना समय लगता है😕।  समय  फिर याद आया कुणाल को तो बताना ही भूल गया😥। हमने तय किया था की एक्सपीरियंस लेटर लेने हम साथ में जायेंगे😇  सोचा चलो कोई बात नहीं ऑफिस पहुँच कर उसको फ़ोन कर दूंगा😑। मैं भी कौन सा ये सोच कर निकला था की ऑफिस जाना है एक्सपीरियंस लेटर लेने।आया तो दूसरे काम से था जो हुआ नहीं सोचा चलो ऑफिस में भी चल के देख लेत्ते हैं😊। आखिर आज नहीं जाऊंगा तो कभी तो जाना ही है इससे अच्छा आज ही चल लेते है👌। गाड़ी में पेट्रोल भी कम है उधर रास्ते में एटीएम भी है पैसे भी निकालने है और वापस आते वक़्त पेट्रोल भी भरा लूंगा👍।  ऑफिस जाना  पैसे निकालने