Skip to main content

मल्टीटास्किंग - कौशल या नासमझी

सुनें 👇


बहु कार्यण यानी बहुत सारे काम करना या ये भी कहा जा सकता है एक काम करने के साथ साथ दूसरे काम भी निपटाना। सोचने पर लगता है की ये कितना अच्छा विकल्प है। जो इसमें माहिर हो जाये वो जीवन में बहुत कामयाब होगा। लोगों के बीच एक अच्छी छवि बनेगी की इसने इतने सारे काम किये हैं। लेकिन क्या सच में ऐसा ही है ?

बहु कार्य यानी एक साथ कई काम करने की अवधारणा शुरू हुई  १९६० में। पहली बार इसका उपयोग आईबीएम(इंटेरनेशनल बिज़नेस मशीन कॉर्पोरशन)जो की एक कंप्यूटर हार्डवेयर कंपनी है के द्वारा किया गया था। इसका उपयोग कंप्यूटर कितना काम कर सकता है पर बातचीत करने लिए किया गया था। या ये भी कह सकते हैं की कंप्यूटर की काम करने की क्षमता कितनी है और कितनी हो सकती है पर चर्चा करने के लिए मल्टीटास्किंग अवधारणा के उपयोग की शुरुआत की गयी थी।

Multitasking - skill or imprudence
बहु कार्यण


बाद में मल्टीटास्किंग की यह अवधारणा जब आम लोगों के बीच पहुंची तो लोगों को यह अवधारणा बहुत पसंद आयी। लोगों को लगने लगा की इससे वो अपने दिनचर्या या समय का बेहतर उपयोग कर सकते हैं। लोग यह मानने लगे कि अगर वो एक साथ कई काम कर लें तो वो ज्यादा सफल और उत्पादक कर्मचारी होंगे,बेहतर माता पिता होंगे और बहुत से कामों में माहिर होंगे।
 
मल्टीटास्किंग का यह विचार था बहुत आकर्षक। लेकिन क्या यह वास्तव में इतना अच्छा था जितना लग रहा था?धीरे धीरे मनोवैज्ञानिकों को यह संदेह होने लगा की मल्टीटास्किंग को लोग जितना फायदेमंद समझ रहे हैं क्या वाकई वो इतना फायदेमंद है ?

आखिर में साल २००१ में इस मल्टीटास्किंग के विचार को खारिज कर दिया गया क्योंकि एमआरआई इमेजरी(मैगनेटिक रेजोनेंस इमेजिंग) जो की एक मेडिकल इमेजिंग टेक्निक है जो रेडिओलॉजी का इस्तेमाल करके शरीर के अंदर की तस्वीर दिखाती है को पता चला की हम जिसे मल्टीटास्किंग समझ रहे हैं वो वास्तव में दिमाग की एक प्रक्रिया है या ये भी कह सकते है की दिमाग का स्वभाव या आदत है जिसके कारण अलग अलग विषयों या कामों के बीच हमारा दिमाग चलता रहता है।

जैसे अगर हम एक जगह शांत होकर कुछ सोचें तो हम एक चीज़ पर बहुत देर तक लगातार नहीं सोच पाते हमारे मन में अलग अलग मुद्दे आते रहते हैं और फिर हम सोचते हैं अरे हम ये किसके बारे में सोचने लगे। फिर हम अपने पहले मुद्दे पर सोचने लगते हैं। यही प्रक्रिया लगातार चलती रहती है। जैसे पहले ही कहा जा चूका है की मन चंचल होता है।
Multitasking - skill or imprudence
ध्यान केंद्रित करना 

लेकिन अगर हम कोई काम को करने के बात करें तो हम एक समय में एक ही काम पर ध्यान केंद्रित कर सकते हैं। हम एक समय में एक से ज्यादा कामों पर ध्यान नही लगा सकते। मनोवैज्ञानिकों द्वारा बहुत से प्रयोग किये गए हैं जिससे पता चलता है की जब लोग एक साथ बहुत से काम करने की कोशिश करते हैं तो काम देर से होते हैं। काम में गलती होने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं। क्योंकि दिमाग एक साथ कई कामों पर ध्यान केंद्रित नहीं कर पाता है।

अभी भी बहुत से लोग मल्टीटास्किंग करने की कोशिश करते हैं। सिर्फ लोगों में ही नहीं बल्कि कई कार्यालयों में भी कर्मचारियों से मल्टीटास्किंग कराने की कोशिश की जाती है।

 मैं भी अपने जीवन में मल्टीटास्किंग करने की गलती कर चूका हूँ। ये उस समय की बात है जब मैंने कॉलेज में एडमिशन लिया था। कॉलेज की क्लास अटैंड करने के साथ साथ मैंने बाहर कम्प्यूटर क्लास भी ज्वाइन कर लिया था उसके अलावा मैंने इन्शुरन्स एजेंट बनने के लिए क्लास, शाम को फूटबाल खेलने के लिए एक फ्रेंड सर्किल भी ज्वाइन कर लिया था ,हर रविवार को एन सी सी जाना होता था। सुबह जल्दी उठ कर दौड़ना और योग करना ये मेरे रोज का नियम था। 

उन दिनों मैं कम समय में ज्यादा और लगभग हर तरह की चीज़ें सीखना चाहता था। मुझे लगता था की मैं जितना ज्यादा क्लास ज्वाइन करूँगा और जितना ज्यादा काम करूँगा मैं उतना ही ज्यादा अलग अलग कामों में माहिर होऊंगा और जीवन में कामयाब होऊंगा। आप अंदाजा लगा सकते हैं की मेरा पूरा दिन कैसे गुजरता होगा। 

लेकिन हुआ ये की किसी भी काम में मुझे महारत हासिल नहीं हुई। अपनी मल्टीटास्किंग की सोच के कारण मुझे रोजगार के लिए भी बहुत संघर्ष करना पड़ा। 

उन दिनों अगर मैंने किसी एक लक्ष्य पर ध्यान लगा कर मेहनत किया होता तो आज बात अलग होती। 

अगर हम अपनी दिनचर्या पर ध्यान दें तो हम पाएंगे की दिन भर हमें सिर्फ एक काम नहीं रहता की हम एक काम पर फोकस करें और उस काम को पूरा कर लें और निश्चिंत हो जाएँ की हमने काम कर लिया है। रोज रोज ना सही लेकिन कभी कभी तो ऐसा होता है की एक साथ बहुत से काम को निपटाना होता है तो सवाल ये उठता है की ऐसे समय पर क्या करना चाहिए। एक तरफ तो ये कहा जा रहा है जहाँ तक हो सके मल्टीटास्किंग से बचना चाहिए और दूसरी तरफ अगर एक साथ कई काम करने की जरुरत पड़े तो ये सोचकर किसी काम को करने से मना करना भी ठीक नहीं होता की एक समय में एक ही काम करना ठीक है। तो ऐसे में हमे ये समझने की जरुरत होती है की अपने काम को प्राथमिकता कैसे दें और ये क्यों जरुरी है । हम इसे एक उदाहरण की मदद से समझ सकते हैं तो आइये समझते हैं -

Multitasking - skill or imprudence

अपने काम को प्राथमिकता कैसे दें और ये क्यों जरुरी है - मान लीजिये आप बाजार जाते हैं घर के कुछ सामान लाने के लिए और बाजार जाकर आप सामान लेने लगते हैं। घर आने के बाद आपको याद आता है की अरे कुछ सामान लाना तो मैं भूल गया और मैंने कई ऐसे सामान ले लिए जो अभी जरुरी नहीं है और कुछ जरुरी सामान जो लेने थे मैं भूल गया। सोचिये ऐसा क्यों हुआ। क्योंकि आपने अपने काम को प्राथमिकता नहीं दिया और ना ही पहले से कोई प्लानिंग या लिस्ट बनाया था की कौन कौन से सामान लेने हैं और उनमें ज्यादा जरुरी सामान कौन से हैं और कम जरुरी सामान कौन से हैं। इसी तरह से हमारे व्यक्तिगत और प्रोफेशनल जीवन में भी कुछ काम कह लीजिये या लक्ष्य कह लीजिये आते रहते हैं जिन्हे हमे प्राथमिकता देते हुए और प्लानिंग के साथ करना होता है। इसी को कहते हैं अपने काम को और लक्ष्यों को प्राथमिकता देना। 

Multitasking - skill or imprudence

Multitasking - skill or imprudence


दोस्तों यह हम सबके व्यक्तिगत और प्रोफेशनल जीवन में जरुरी है। इसकी शुरुवात आप अपनी दिनचर्या से कर सकते हैं क्योंकि सबको अपनी दिनचर्या के बारे में पता होता है की कब क्या चल रहा है। आप रात को अपने अगले दिन के कामों के लिस्ट बना सकते हैं और जो काम ज्यादा जरुरी हों और ज्यादा कठिन हों उन्हें पहले करने की कोशिश करें। आपको ये भी पता होता है की आपकी दिनचर्या में काम के बीच कब और क्यों डिस्टर्बेंस होता है। उसके उपाय के बारे में सोचें उस हिसाब से टाइम मैनेज करें। फिर बाद में अपने कामों का रिव्यु करें। इससे आपको ये समझने में मदद मिलेगी की कौन से काम को कितना करना है ,कितना ब्रेक लेना चाहिए ,उन कामों को
 करने में क्या क्या बाधाएँ हैं और उनका उपाय क्या हो सकता है। इस तरह से आप अपने पर्सनल और प्रोफेशनल लाइफ में मल्टीटास्किंग भी कर सकते हैं और अपने लक्ष्यों को सफलतापूर्वक हासिल कर सकते हैं।

उम्मीद करता हूँ की आप मेरे इस लेख को पढ़कर मल्टीटास्किंग के बारे में समझ गए होंगे।

Click for English


Comments

Popular posts from this blog

वह दिन - एक सच्चा अनुभव

 सुनें 👇 उस दिन मेरे भाई ने दुकान से फ़ोन किया की वह अपना बैग घर में भूल गया है ,जल्दी से वह बैग दुकान पहुँचा दो । मैं उसका बैग लेकर घर से मोटरसाईकल पर दुकान की तरफ निकला। अभी आधी दुरी भी पार नहीं हुआ था की मोटरसाइकल की गति अपने आप धीरे होने लगी और  थोड़ी देर में मोटरसाइकिल बंद हो गयी। मैंने चेक किया तो पाया की मोटरसाइकल का पेट्रोल ख़त्म हो गया है। मैंने सोचा ये कैसे हो गया ! अभी कल तो ज्यादा पेट्रोल था ,किसी ने निकाल लिया क्या ! या फिर किसी ने इसका बहुत ज्यादा इस्तेमाल किया होगा। मुझे एक बार घर से निकलते समय देख लेना चाहिए था। अब क्या करूँ ? मेरे साथ ही ऐसा क्यों होता है ?  मोटरसाइकिल चलाना  ऐसे समय पर भगवान की याद आ ही जाती है। मैंने भी मन ही मन भगवान को याद किया और कहा हे भगवान कैसे भी ये मोटरसाइकल चालू हो जाये और मैं पेट्रोल पंप तक पहुँच जाऊँ। भगवान से ऐसे प्रार्थना करने के बाद मैंने मोटरसाइकिल को किक मार कर चालू करने की बहुत कोशिश किया लेकिन मोटरसाइकल चालू नहीं हुई। और फिर मैंने ये मान लिया की पेट्रोल ख़त्म हो चूका है मोटरसाइकल ऐसे नहीं चलने वाली।  आखिर मुझे चलना तो है ही क्योंकि पेट

व्यवहारिक जीवन और शिक्षा

सुनें 👇 एक दिन दोपहर को अपने काम से थोड़ा ब्रेक लेकर जब मैं अपनी छत की गैलरी में टहल रहा था और धुप सेंक रहा था। अब क्या है की उस दिन ठंडी ज्यादा महसूस हो रही थी। तभी मेरी नज़र आसमान में उड़ती दो पतंगों पर पड़ी। उन पतंगों को देखकर अच्छा लग रहा था। उन पतंगों को देखकर मैं सोच रहा था ,कभी मैं भी जब बच्चा था और गांव में था तो मैं पतंग उड़ाने का शौकीन था। मैंने बहुत पतंगे उड़ाई हैं कभी खरीदकर तो कभी अख़बार से बनाकर। पता नहीं अब वैसे पतंग  उड़ा पाऊँगा की नहीं। गैलरी में खड़ा होना    पतंगों को उड़ते देखते हुए यही सब सोच रहा था। तभी मेरे किराये में रहने वाली एक महिला आयी हाथ में कुछ लेकर कपडे से ढके हुए और मम्मी के बारे में पूछा तो मैंने बताया नीचे होंगी रसोई में। वो नीचे चली गयी और मैं फिर से उन पतंगों की तरफ देखने लगा। मैंने देखा एक पतंग कट गयी और हवा में आज़ाद कहीं गिरने लगी। अगर अभी मैं बच्चा होता तो वो पतंग लूटने के लिए दौड़ पड़ता। उस कटी हुई पतंग को गिरते हुए देखते हुए मुझे अपने बचपन की वो शाम याद आ गई। हाथ में पतंग  मैं अपने गांव के घर के दो तले पर से पतंग उड़ा रहा था वो भी सिलाई वाली रील से। मैंने प

अनुभव पत्र

सुनें 👉 आज मैं बहुत दिनों बाद अपने ऑफिस गया लगभग एक साल बाद इस उम्मीद में की आज मुझे मेरा एक्सपीरियंस लेटर मिल जाएगा। वैसे मै ऑफिस दोबारा कभी नहीं जाना चाहता 😓लेकिन मजबूरी है 😓क्योंकि एक साल हो गए ऑफिस छोड़े हुए😎।नियम के मुताबिक ऑफिस छोड़ने के 45 दिन के बाद  मेरे ईमेल एकाउंट मे एक्सपीरियंस लेटर आ जाना चाहिए था☝। आखिर जिंदगी के पाँच साल उस ऑफिस में दिए हैं एक्सपीरियंस लेटर तो लेना ही चाहिए। मेरा काम वैसे तो सिर्फ 10 मिनट का है लेकिन देखता हूँ कितना समय लगता है😕।  समय  फिर याद आया कुणाल को तो बताना ही भूल गया😥। हमने तय किया था की एक्सपीरियंस लेटर लेने हम साथ में जायेंगे😇  सोचा चलो कोई बात नहीं ऑफिस पहुँच कर उसको फ़ोन कर दूंगा😑। मैं भी कौन सा ये सोच कर निकला था की ऑफिस जाना है एक्सपीरियंस लेटर लेने।आया तो दूसरे काम से था जो हुआ नहीं सोचा चलो ऑफिस में भी चल के देख लेत्ते हैं😊। आखिर आज नहीं जाऊंगा तो कभी तो जाना ही है इससे अच्छा आज ही चल लेते है👌। गाड़ी में पेट्रोल भी कम है उधर रास्ते में एटीएम भी है पैसे भी निकालने है और वापस आते वक़्त पेट्रोल भी भरा लूंगा👍।  ऑफिस जाना  पैसे निकालने