Skip to main content

Ego and the game of time

We all have heard some stories in our lives. Some of them are correct, some are fictional, some are very funny and listening to or reading gives them entertainment as well as learning something, especially about moral values like this story which I read somewhere.

Once, a king riding on horseback with his servant reached a dense part of the forest. There the king's horse suddenly collapsed and died. There was a problem before the king to return to the palace. Seeing the king upset, the servant suggested, "Maharaj, please sit on my horse. We both sit together on the horse😇."

But the king felt insulted by it and the king refused to sit on his horse.

The servant understood the king's mind😊. He told the king that you go on my horse, I will come on foot😊.The king sat on the servant's horse and walked. The servant started walking.

Ego and the game of time
King

Slowly, the news of the servant's paradise spread all around😧.

The king was very sad when he came to know😩. He too came to shoulder the servant's bier.

When he reached the servant, in a while, the servant got up and sat down😮.

Everyone was surprised to see this😲. The king was very angry. The king got angry and said what a joke this is.😠?"

The servant told that sir, all this has happened not because of me but because of intoxication.👈. You did not make me sit with you because of the power. I was tired of walking and fell asleep on this cot. These people drunk on alcohol Got me dead. But time gives the right decision. See, where you were not letting me sit on the horse and now you have come to lift me on the shoulder😎😁.

When I first read this story, I was not so smart at that time or I can even say that it was very childish at that time. I had read this story and enjoyed it and forgot it. But now I think about this story, then it makes sense that it is not just a story, it also has some social messages. If you try to understand, then this story is old-fashioned, but the things told in it also fit in today's environment.

An attempt has been made to explain from this story that there is no one stronger than time. No one knows when the time comes and at which point. Regardless of the position you are in, whether you are rich or poor. First of all we are human beings and as humans we should help each other without any discrimination.

This story is also important in today's time. Today, it is not the age of kings and maharajas, but we are still divided in the name of rank and class, and there is a kind of separatism and confusion between each other.

But time still played its game and still plays.

Ego and the game of time

Nothing can be said for sure about what our future will be like and how people will treat us. But whatever condition we are in at present, whether it is in very good condition or we are going through bad condition. We should keep trying that we should treat everyone well, no one should feel bad because of us, try to help everyone, Do not consider anyone more or less, respect everyone equally so that when the time comes, we will also be treated well and we do not regret that we had behaved wrongly in the past. Because it is said that time changes for everyone, time never stays the same. No one knows this game of time when the time has brought whom, in what condition.

Popular posts from this blog

वह दिन - एक सच्चा अनुभव

 सुनें 👇 उस दिन मेरे भाई ने दुकान से फ़ोन किया की वह अपना बैग घर में भूल गया है ,जल्दी से वह बैग दुकान पहुँचा दो । मैं उसका बैग लेकर घर से मोटरसाईकल पर दुकान की तरफ निकला। अभी आधी दुरी भी पार नहीं हुआ था की मोटरसाइकल की गति अपने आप धीरे होने लगी और  थोड़ी देर में मोटरसाइकिल बंद हो गयी। मैंने चेक किया तो पाया की मोटरसाइकल का पेट्रोल ख़त्म हो गया है। मैंने सोचा ये कैसे हो गया ! अभी कल तो ज्यादा पेट्रोल था ,किसी ने निकाल लिया क्या ! या फिर किसी ने इसका बहुत ज्यादा इस्तेमाल किया होगा। मुझे एक बार घर से निकलते समय देख लेना चाहिए था। अब क्या करूँ ? मेरे साथ ही ऐसा क्यों होता है ?  मोटरसाइकिल चलाना  ऐसे समय पर भगवान की याद आ ही जाती है। मैंने भी मन ही मन भगवान को याद किया और कहा हे भगवान कैसे भी ये मोटरसाइकल चालू हो जाये और मैं पेट्रोल पंप तक पहुँच जाऊँ। भगवान से ऐसे प्रार्थना करने के बाद मैंने मोटरसाइकिल को किक मार कर चालू करने की बहुत कोशिश किया लेकिन मोटरसाइकल चालू नहीं हुई। और फिर मैंने ये मान लिया की पेट्रोल ख़त्म हो चूका है मोटरसाइकल ऐसे नहीं चलने वाली।  आखिर मुझे चलना तो है ही क्योंकि पेट

व्यवहारिक जीवन और शिक्षा

सुनें 👇 एक दिन दोपहर को अपने काम से थोड़ा ब्रेक लेकर जब मैं अपनी छत की गैलरी में टहल रहा था और धुप सेंक रहा था। अब क्या है की उस दिन ठंडी ज्यादा महसूस हो रही थी। तभी मेरी नज़र आसमान में उड़ती दो पतंगों पर पड़ी। उन पतंगों को देखकर अच्छा लग रहा था। उन पतंगों को देखकर मैं सोच रहा था ,कभी मैं भी जब बच्चा था और गांव में था तो मैं पतंग उड़ाने का शौकीन था। मैंने बहुत पतंगे उड़ाई हैं कभी खरीदकर तो कभी अख़बार से बनाकर। पता नहीं अब वैसे पतंग  उड़ा पाऊँगा की नहीं। गैलरी में खड़ा होना    पतंगों को उड़ते देखते हुए यही सब सोच रहा था। तभी मेरे किराये में रहने वाली एक महिला आयी हाथ में कुछ लेकर कपडे से ढके हुए और मम्मी के बारे में पूछा तो मैंने बताया नीचे होंगी रसोई में। वो नीचे चली गयी और मैं फिर से उन पतंगों की तरफ देखने लगा। मैंने देखा एक पतंग कट गयी और हवा में आज़ाद कहीं गिरने लगी। अगर अभी मैं बच्चा होता तो वो पतंग लूटने के लिए दौड़ पड़ता। उस कटी हुई पतंग को गिरते हुए देखते हुए मुझे अपने बचपन की वो शाम याद आ गई। हाथ में पतंग  मैं अपने गांव के घर के दो तले पर से पतंग उड़ा रहा था वो भी सिलाई वाली रील से। मैंने प

अनुभव पत्र

सुनें 👉 आज मैं बहुत दिनों बाद अपने ऑफिस गया लगभग एक साल बाद इस उम्मीद में की आज मुझे मेरा एक्सपीरियंस लेटर मिल जाएगा। वैसे मै ऑफिस दोबारा कभी नहीं जाना चाहता 😓लेकिन मजबूरी है 😓क्योंकि एक साल हो गए ऑफिस छोड़े हुए😎।नियम के मुताबिक ऑफिस छोड़ने के 45 दिन के बाद  मेरे ईमेल एकाउंट मे एक्सपीरियंस लेटर आ जाना चाहिए था☝। आखिर जिंदगी के पाँच साल उस ऑफिस में दिए हैं एक्सपीरियंस लेटर तो लेना ही चाहिए। मेरा काम वैसे तो सिर्फ 10 मिनट का है लेकिन देखता हूँ कितना समय लगता है😕।  समय  फिर याद आया कुणाल को तो बताना ही भूल गया😥। हमने तय किया था की एक्सपीरियंस लेटर लेने हम साथ में जायेंगे😇  सोचा चलो कोई बात नहीं ऑफिस पहुँच कर उसको फ़ोन कर दूंगा😑। मैं भी कौन सा ये सोच कर निकला था की ऑफिस जाना है एक्सपीरियंस लेटर लेने।आया तो दूसरे काम से था जो हुआ नहीं सोचा चलो ऑफिस में भी चल के देख लेत्ते हैं😊। आखिर आज नहीं जाऊंगा तो कभी तो जाना ही है इससे अच्छा आज ही चल लेते है👌। गाड़ी में पेट्रोल भी कम है उधर रास्ते में एटीएम भी है पैसे भी निकालने है और वापस आते वक़्त पेट्रोल भी भरा लूंगा👍।  ऑफिस जाना  पैसे निकालने