Skip to main content

ऐसे ही - जीवन में बदलाव लाओ और नयापन पाओ

 

Bring change and get newness in life
टहलना 
सुनें 👇


जीवन कभी एक सा नहीं रहता। जीवन में बदलाव होते रहते हैं। हम हों या हमारे आसपास की चीज़ें सब समय के अनुसार बदलती रहती हैं जैसे मौसम ,हमारा शरीर  कभी उम्र के अनुसार तो कभी सेहत के अनुसार। कहते हैं बदलाव नियम है इस दुनिया का। जो बदलाव भगवान की मरज़ी से होते हैं या ये भी कह सकते है की प्रकृति के अनुसार होते हैं उसमें तो हम कुछ नहीं कर सकते। लेकिन अपने जीवन में छोटे छोटे बदलाव करके हम अपने जीवन को बेहतर बना सकते हैं। 

रोज़ एक ही तरह का काम करके और एक ही तरह की समय सारणी का पालन करके बहुत बोर महसूस होने लगता है और जीवन में कुछ मज़ा नहीं आता चाहे हम कितना भी अच्छा काम कर रहे हों। कभी कभी हमें ऐसे बदलाव करने चाहिए जो बाकी दिनों से अलग हों जिससे की जीवन में कुछ नयापन महसूस हो और हो सकता है जीवन में कुछ नया सिखने या कुछ नया समझने को मिल जाये। कहीं न कहीं हम सब ने अपने जीवन में ये बात सुनी ही होती है की वक़्त और हालात कितने भी बुरे और अच्छे क्यों न हों कुछ न कुछ तो सीखा कर ही जाते हैं। बदलाव हमारे जीवन में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।  

Bring change and get newness in life
नयापन महसूस करना 

उस दिन जब मैं सुबह उठा। सोचा आज कुछ अलग करता हूँ। रोज रोज एक ही टाइम टेबल फॉलो करके बोर हो गया था। रोज सुबह जल्दी उठना योग और एक्सरसाइजेज करना ये तो चलता ही रहेगा लेकिन आज कुछ अलग होना चाहिए। फिर सोचा क्या करूँ वापस सो जाऊँ। नहीं ये ठीक नहीं रहेगा इससे अच्छा तो कसरत ही कर लेता हूँ। फिर सोचा ऐसे ही बाहर घूम लेता हूँ। 

बाहर घूमते हुए ख्याल आया की इस तरफ तो रोज ही घूमता हूँ आज कहीं और चलता हूँ। फिर क्या था मैं चल पड़ा कच्चे रास्तों पर खेतों की तरफ। वैसे भी जब से गांव छूटा है तब से खेतों की तरफ जाने का मौका नहीं मिलता। मैंने हाथ में एक डंडी उठाई और उसे घुमाते हुए चलने लगा। सुबह की ठंडी और ताज़ी हवा ,चारों तरफ हरा भरा माहौल मन को बहुत अच्छा महसूस हो रहा था। 

Bring change and get newness in life
अच्छा महसूस करना 

फिर सोचा सामने वाले पहाड़ पर चलता हूँ जो की काफी दूर है गाड़ी से तो कई बार जा चूका हूँ आज पैदल चल के देखता हूँ कितना दूर है और कितना समय लगेगा। मैं पैदल उस पहाड़ की तरफ चल पड़ा। उस दिन मैं लगभग आठ किलोमीटर पैदल चला। मेरा मन भी बहल गया। मुझे बहुत पसीना भी हुआ जैसे मैंने बहुत ज्यादा एक्सरसाइज कर लिया हो और मुझे काफी अच्छा महसूस हो रहा था। उसके बाद हर शाम को मैं उस पहाड़ की तरफ जाने लगा।

कभी कभी कुछ ऐसे ही कर लेना कितना अच्छा होता है ,कुछ नया सिखने को मिल जाता है। मैंने पहले सही ही सुना था की वाकिंग दुनिया की  बेहतर एक्सरसाइज है। बस अपने आप में खोये रहो और चलते रहो इससे पूरे शरीर की कसरत भी हो जाती है और इसमें कुछ खर्चा भी नहीं है। 

इतने समय से वाकिंग करने के बाद मैंने ये भी महसूस किया है की रोज चलने के कारण हमें जीवन जीने और जीवन में आने वाली समस्याओं का सामना करने लिए आत्मविश्वास बढ़ने लगता है और हम तनावमुक्त भी होने लगते हैं। ये कहना गलत नहीं होगा की बदलाव हमारे जीवन में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। 

बदलाव से मेरा मतलब जीवन में अच्छे बदलाव से है। कई बार ऐसा भी होता है की सब कुछ अच्छे से चल रहा होता है और एक अनावश्यक बदलाव के कारण या तो सब गड़बड़ हो जाता है या उसमें पहले जैसी बात नहीं रहती है। जैसे अगर उस दिन टहलने के बजाय अगर मैं सो जाता या ऐसी कोई आदत अपना लेता जो मेरी अच्छी लाइफस्टाइल से सम्बंधित नहीं होती तो उस दिन मुझे टहलने और बदलाव का महत्व समझ में नहीं आता। हमें बदलाव अच्छे के लिए करना चाहिए। बदलाव करते समय ये ध्यान रखना चाहिए की जो पहले से अच्छा हो रहा है उसपर कोई गलत प्रभाव ना पड़े। 

Bring change and get newness in life
सुबह की चाय 

इसको और सही से समझने के लिए मैं अपने बचपन की एक बात यहाँ बताना चाहूंगा। उन दिनों रविवार की छुट्टी के दिन टेलीविजन पर सुबह सुबह एक गाने का कार्यक्रम आता था। उस दिनों लोगों को वो कार्यक्रम बहुत पसंद था। उस दिन रविवार की छुट्टी का दिन होता था तो लोग आराम से चाय की चुस्की के साथ उस कार्यक्रम का आनंद लेते थे। कुछ समय बाद ऐसा हुआ की उस कार्यक्रम में कुछ बदलाव किये गए जिसके कारण उस कार्यक्रम में वो पहले वाली बात नहीं रही जिसके कारण लोगों की उस कार्यक्रम के प्रति दिलचस्पी कम होती गयी। 

इस उदाहरण से आप समझ सकते हैं की बिना वजह बदलाव के क्या नुकसान हो सकते हैं। 

बदलाव उतना ही अच्छा है जितना की जरूरी है।  

Click for English


Comments

Popular posts from this blog

वह दिन - एक सच्चा अनुभव

 सुनें 👇 उस दिन मेरे भाई ने दुकान से फ़ोन किया की वह अपना बैग घर में भूल गया है ,जल्दी से वह बैग दुकान पहुँचा दो । मैं उसका बैग लेकर घर से मोटरसाईकल पर दुकान की तरफ निकला। अभी आधी दुरी भी पार नहीं हुआ था की मोटरसाइकल की गति अपने आप धीरे होने लगी और  थोड़ी देर में मोटरसाइकिल बंद हो गयी। मैंने चेक किया तो पाया की मोटरसाइकल का पेट्रोल ख़त्म हो गया है। मैंने सोचा ये कैसे हो गया ! अभी कल तो ज्यादा पेट्रोल था ,किसी ने निकाल लिया क्या ! या फिर किसी ने इसका बहुत ज्यादा इस्तेमाल किया होगा। मुझे एक बार घर से निकलते समय देख लेना चाहिए था। अब क्या करूँ ? मेरे साथ ही ऐसा क्यों होता है ?  मोटरसाइकिल चलाना  ऐसे समय पर भगवान की याद आ ही जाती है। मैंने भी मन ही मन भगवान को याद किया और कहा हे भगवान कैसे भी ये मोटरसाइकल चालू हो जाये और मैं पेट्रोल पंप तक पहुँच जाऊँ। भगवान से ऐसे प्रार्थना करने के बाद मैंने मोटरसाइकिल को किक मार कर चालू करने की बहुत कोशिश किया लेकिन मोटरसाइकल चालू नहीं हुई। और फिर मैंने ये मान लिया की पेट्रोल ख़त्म हो चूका है मोटरसाइकल ऐसे नहीं चलने वाली।  आखिर मुझे चलना तो है ही क्योंकि पेट

व्यवहारिक जीवन और शिक्षा

सुनें 👇 एक दिन दोपहर को अपने काम से थोड़ा ब्रेक लेकर जब मैं अपनी छत की गैलरी में टहल रहा था और धुप सेंक रहा था। अब क्या है की उस दिन ठंडी ज्यादा महसूस हो रही थी। तभी मेरी नज़र आसमान में उड़ती दो पतंगों पर पड़ी। उन पतंगों को देखकर अच्छा लग रहा था। उन पतंगों को देखकर मैं सोच रहा था ,कभी मैं भी जब बच्चा था और गांव में था तो मैं पतंग उड़ाने का शौकीन था। मैंने बहुत पतंगे उड़ाई हैं कभी खरीदकर तो कभी अख़बार से बनाकर। पता नहीं अब वैसे पतंग  उड़ा पाऊँगा की नहीं। गैलरी में खड़ा होना    पतंगों को उड़ते देखते हुए यही सब सोच रहा था। तभी मेरे किराये में रहने वाली एक महिला आयी हाथ में कुछ लेकर कपडे से ढके हुए और मम्मी के बारे में पूछा तो मैंने बताया नीचे होंगी रसोई में। वो नीचे चली गयी और मैं फिर से उन पतंगों की तरफ देखने लगा। मैंने देखा एक पतंग कट गयी और हवा में आज़ाद कहीं गिरने लगी। अगर अभी मैं बच्चा होता तो वो पतंग लूटने के लिए दौड़ पड़ता। उस कटी हुई पतंग को गिरते हुए देखते हुए मुझे अपने बचपन की वो शाम याद आ गई। हाथ में पतंग  मैं अपने गांव के घर के दो तले पर से पतंग उड़ा रहा था वो भी सिलाई वाली रील से। मैंने प

अनुभव पत्र

सुनें 👉 आज मैं बहुत दिनों बाद अपने ऑफिस गया लगभग एक साल बाद इस उम्मीद में की आज मुझे मेरा एक्सपीरियंस लेटर मिल जाएगा। वैसे मै ऑफिस दोबारा कभी नहीं जाना चाहता 😓लेकिन मजबूरी है 😓क्योंकि एक साल हो गए ऑफिस छोड़े हुए😎।नियम के मुताबिक ऑफिस छोड़ने के 45 दिन के बाद  मेरे ईमेल एकाउंट मे एक्सपीरियंस लेटर आ जाना चाहिए था☝। आखिर जिंदगी के पाँच साल उस ऑफिस में दिए हैं एक्सपीरियंस लेटर तो लेना ही चाहिए। मेरा काम वैसे तो सिर्फ 10 मिनट का है लेकिन देखता हूँ कितना समय लगता है😕।  समय  फिर याद आया कुणाल को तो बताना ही भूल गया😥। हमने तय किया था की एक्सपीरियंस लेटर लेने हम साथ में जायेंगे😇  सोचा चलो कोई बात नहीं ऑफिस पहुँच कर उसको फ़ोन कर दूंगा😑। मैं भी कौन सा ये सोच कर निकला था की ऑफिस जाना है एक्सपीरियंस लेटर लेने।आया तो दूसरे काम से था जो हुआ नहीं सोचा चलो ऑफिस में भी चल के देख लेत्ते हैं😊। आखिर आज नहीं जाऊंगा तो कभी तो जाना ही है इससे अच्छा आज ही चल लेते है👌। गाड़ी में पेट्रोल भी कम है उधर रास्ते में एटीएम भी है पैसे भी निकालने है और वापस आते वक़्त पेट्रोल भी भरा लूंगा👍।  ऑफिस जाना  पैसे निकालने