Skip to main content

ऑफिस का वो पल

सुनें 👇



करीब रात के साढ़े आठ बजे होंगे। ऑफिस के कमरे की लाइटें चालू हो चुकी थी। पूरे कमरे में कीबोर्ड के खट खट की आवाज़ गूंज रही थी। कुछ लोग आपस में काम से सम्बंधित मुद्दों पर बात कर रहे थे। कुछ लोग ब्रेक पर जाने वाले थे इसलिए थोड़ी चहल पहल थी। मैं भी अपना उस दिन का टारगेट पूरा करने में लगा था।

थोड़ी देर में कमरे में एकदम शांति हो गयी। ज्यादातर लोग ब्रेक पर जा चुके थे। मैं और दो या तीन लोग और रहे होंगे कमरे में जो अपना टारगेट जल्दी पूरा करने की कोशिश कर रहे होंगे। कुछ और समय बिता और आखिरकार मैंने अपना टारगेट पूरा कर लिया।

ऑफिस का वो पल
पूरा चाँद 

उसके बाद मैंने कीबोर्ड से अपनी उंगिलयां हटाई और इसी के साथ मेरे कीबोर्ड से खट खट की आवाज बंद हो गयी। लेकिन बाकि लोगों के कीबोर्ड से खट खट आवाजें आनी चालू थी। सामने खिड़की के बाहर पूरा अँधेरा हो चूका था। रोड के किनारे खंभे पर की लाइटें चालू थीं। रोड आती जाती गाड़ियों से भरा हुआ था। अँधेरे में ऊपर आसमान का रंग और और नीचे पेड़ पौधो का रंग एक हो चूका था। 

टारगेट पूरा करने के बाद मैंने कुर्सी थोड़ा पीछे किया और रिलैक्स होने के लिए गर्दन ऊपर करके कुर्सी पर टिका कर आँखें बंद कर लिया। आँखें बंद करते ही सामने आ गयी मेरे गांव की वो तस्वीर ,वो चाँदनी रात ,गांव के रात का वो शांत माहौल ,खुला आँगन ,और अपनी माँ के साथ चारपाई पर चैन की नींद सोता हुआ मैं। चाँद अपनी रोशनी से आँगन ,छत और सब तरफ हल्का उजाला किये हुए है और मैं अपनी माँ के बाँहों में चैन की नींद सो रहा हूँ। कितना अच्छा महसूस हो रहा था।

ऑफिस का वो पल
कुछ महसूस करना 

फिर ख्याल आया की मैं ऑफिस में बैठा हूँ। ये ख्याल आते ही वो खट खट की आवाज फिर सुनाई देने लगी जो बीच में गायब हो गयी थी। 

फिर मैंने भी ऑंखें खोली और इधर उधर देखा की कोई मेरी तरफ देख तो नहीं रहा है। आखिर ये ऑफिस है यहाँ पता नहीं किसको किस बात से समस्या हो जाये और वो शिकायत कर दे। ये समझना मुश्किल है। इसलिए थोड़ा सतर्क रहना पड़ता है। थोड़ी देर में लोग ब्रेक से आना चालू हो गए थे और थोड़ी चहल पहल भी शुरू हो गयी थी। 

मैं सोचने लगा की कितने अच्छे दिन थे वो। कितना सादा जीवन था मेरा। वो बचपन का गांव। एक बड़ा परिवार। वो अपनापन। दिन काम करने के लिए होता था और रात चैन से सोने के लिए होती थी। 

ऑफिस का वो पल
चाँद की रोशनी 

अब तो इस स्मार्टफोन के ज़माने में हमारा जीवन भी स्मार्टफ़ोन की तरह ही हो गया है।जैसे स्मार्टफोन को तब तक इस्तेमाल किया जाता है जब तक उसकी बैटरी डाउन नहीं हो जाती। वैसे हम भी काम करने के बाद अपने घर और कमरे में कुछ समय के लिए चार्ज होने के लिए आते हैं। ऐसा हर जगह तो नहीं है लेकिन ज्यादातर प्राइवेट जॉब्स में तो यही हाल है।शिफ्ट वाली जॉब करना पड़ता है। दिन रात काम करना पड़ता है। कुदरत का कोई नियम नहीं माना जाता है। किसी को ज्यादा से ज्यादा मुनाफा के लिए करना पड़ता है।  किसी को अपनी रोजी रोटी के लिए करना पड़ता है। बहुत लोग ऐसे भी हैं जिनकी मानसिकता ही ऐसी है जिनके लिए अंधाधुन प्रतियोगिता और तरक्की ही सबकुछ है। 
ऑफिस का वो पल
लहराती फसलें 

ये भी सच है की गांव की जिंदगी में कुछ कमियाँ हैं  जैसे रोजगार ,जातिप्रथा ,परिवारों का आपस में तनाव इत्यादि जिसके कारण लोगों को शहर आना पड़ता है। लेकिन रोजगार के अलावा बाकि सारी समस्या शहरों में भी हैं। अगर लोग सादा जीवन ,अपनापन वाली मानसिकता को अपना लें और अंधाधुन पैसे के पीछे भागना छोड़ दें तो मुझे लगता है गांव में बेरोजगारी की समस्या काफी हद तक सुलझायी जा सकती है। शहर के चकाचौंध में कभी न कभी अपना वो बचपन का गांव ,वो अपनापन ,वो सादी और सुकून भरी जिंदगी याद आ ही जाती है। 
ऑफिस का वो पल
गांव 

हम कितनी भी तरक्की कर लें ,कितनी भी सुविधाएँ जुटा लें लेकिन जो अपनापन अपने गांव जाकर महसूस होता है। वैसा अपनापन कहीं और जाकर महसूस नहीं होता है। 

ऑफिस का वो पल कितना कुछ एहसास करा गया। 

Click for English

Comments

Popular posts from this blog

वह दिन - एक सच्चा अनुभव

 सुनें 👇 उस दिन मेरे भाई ने दुकान से फ़ोन किया की वह अपना बैग घर में भूल गया है ,जल्दी से वह बैग दुकान पहुँचा दो । मैं उसका बैग लेकर घर से मोटरसाईकल पर दुकान की तरफ निकला। अभी आधी दुरी भी पार नहीं हुआ था की मोटरसाइकल की गति अपने आप धीरे होने लगी और  थोड़ी देर में मोटरसाइकिल बंद हो गयी। मैंने चेक किया तो पाया की मोटरसाइकल का पेट्रोल ख़त्म हो गया है। मैंने सोचा ये कैसे हो गया ! अभी कल तो ज्यादा पेट्रोल था ,किसी ने निकाल लिया क्या ! या फिर किसी ने इसका बहुत ज्यादा इस्तेमाल किया होगा। मुझे एक बार घर से निकलते समय देख लेना चाहिए था। अब क्या करूँ ? मेरे साथ ही ऐसा क्यों होता है ?  मोटरसाइकिल चलाना  ऐसे समय पर भगवान की याद आ ही जाती है। मैंने भी मन ही मन भगवान को याद किया और कहा हे भगवान कैसे भी ये मोटरसाइकल चालू हो जाये और मैं पेट्रोल पंप तक पहुँच जाऊँ। भगवान से ऐसे प्रार्थना करने के बाद मैंने मोटरसाइकिल को किक मार कर चालू करने की बहुत कोशिश किया लेकिन मोटरसाइकल चालू नहीं हुई। और फिर मैंने ये मान लिया की पेट्रोल ख़त्म हो चूका है मोटरसाइकल ऐसे नहीं चलने वाली।  आखिर मुझे चलना तो है ही क्योंकि पेट

व्यवहारिक जीवन और शिक्षा

सुनें 👇 एक दिन दोपहर को अपने काम से थोड़ा ब्रेक लेकर जब मैं अपनी छत की गैलरी में टहल रहा था और धुप सेंक रहा था। अब क्या है की उस दिन ठंडी ज्यादा महसूस हो रही थी। तभी मेरी नज़र आसमान में उड़ती दो पतंगों पर पड़ी। उन पतंगों को देखकर अच्छा लग रहा था। उन पतंगों को देखकर मैं सोच रहा था ,कभी मैं भी जब बच्चा था और गांव में था तो मैं पतंग उड़ाने का शौकीन था। मैंने बहुत पतंगे उड़ाई हैं कभी खरीदकर तो कभी अख़बार से बनाकर। पता नहीं अब वैसे पतंग  उड़ा पाऊँगा की नहीं। गैलरी में खड़ा होना    पतंगों को उड़ते देखते हुए यही सब सोच रहा था। तभी मेरे किराये में रहने वाली एक महिला आयी हाथ में कुछ लेकर कपडे से ढके हुए और मम्मी के बारे में पूछा तो मैंने बताया नीचे होंगी रसोई में। वो नीचे चली गयी और मैं फिर से उन पतंगों की तरफ देखने लगा। मैंने देखा एक पतंग कट गयी और हवा में आज़ाद कहीं गिरने लगी। अगर अभी मैं बच्चा होता तो वो पतंग लूटने के लिए दौड़ पड़ता। उस कटी हुई पतंग को गिरते हुए देखते हुए मुझे अपने बचपन की वो शाम याद आ गई। हाथ में पतंग  मैं अपने गांव के घर के दो तले पर से पतंग उड़ा रहा था वो भी सिलाई वाली रील से। मैंने प

अनुभव पत्र

सुनें 👉 आज मैं बहुत दिनों बाद अपने ऑफिस गया लगभग एक साल बाद इस उम्मीद में की आज मुझे मेरा एक्सपीरियंस लेटर मिल जाएगा। वैसे मै ऑफिस दोबारा कभी नहीं जाना चाहता 😓लेकिन मजबूरी है 😓क्योंकि एक साल हो गए ऑफिस छोड़े हुए😎।नियम के मुताबिक ऑफिस छोड़ने के 45 दिन के बाद  मेरे ईमेल एकाउंट मे एक्सपीरियंस लेटर आ जाना चाहिए था☝। आखिर जिंदगी के पाँच साल उस ऑफिस में दिए हैं एक्सपीरियंस लेटर तो लेना ही चाहिए। मेरा काम वैसे तो सिर्फ 10 मिनट का है लेकिन देखता हूँ कितना समय लगता है😕।  समय  फिर याद आया कुणाल को तो बताना ही भूल गया😥। हमने तय किया था की एक्सपीरियंस लेटर लेने हम साथ में जायेंगे😇  सोचा चलो कोई बात नहीं ऑफिस पहुँच कर उसको फ़ोन कर दूंगा😑। मैं भी कौन सा ये सोच कर निकला था की ऑफिस जाना है एक्सपीरियंस लेटर लेने।आया तो दूसरे काम से था जो हुआ नहीं सोचा चलो ऑफिस में भी चल के देख लेत्ते हैं😊। आखिर आज नहीं जाऊंगा तो कभी तो जाना ही है इससे अच्छा आज ही चल लेते है👌। गाड़ी में पेट्रोल भी कम है उधर रास्ते में एटीएम भी है पैसे भी निकालने है और वापस आते वक़्त पेट्रोल भी भरा लूंगा👍।  ऑफिस जाना  पैसे निकालने