Skip to main content

Today morning Part-1

How much importance should be given to whom and according to the circumstances how all the work should be done.

This morning was very cool. As usual the three of us got up early in the morning and as usual we all went out of the house. When I came out of the house and was wearing my shoes while sitting in the verandah, I saw that today the weather is very different. There are changes in the sky. It seemed that it might rain anytime.

Today morning Part-1

I thought that if it starts raining, then my and my friends' morning walk, running and exercise will stop. Then I thought that every season has its own importance. If there is no rain, there will be a lot of water problem this year. But it is also necessary for me to run and walk everyday. While waiting for friends and walking in front of my house I came to the conclusion thinking more that what difference would it make if the work of running and walking is not done for some time. I wake up early in the morning, as long as the rainy season lasts, I will also do exercise after doing yoga in the morning at home. Agreed that it is important for me to run and exercise in the morning, but it is even more important to get rain in the rainy season. Anyway, according to the weather, it should have started raining earlier. After all, every season has its own fun. It has been very hot, now it must rain. May everyone get relief from the heat.

Today morning Part-1

By the way, it happens many times in the life of all of us that there are situations in front of us in which we have two or more tasks and all are important for us, but we have to decide after thinking and assessing. It happens that how much importance should be given to whom and according to the circumstances how all the work should be done. It may also have to be decided which work should not be done for some time. And which work is more important. Like I felt it more important to have rain. Although it is necessary for me to run and exercise to stay fit, but it is also necessary to rain according to the time. That's why I don't want to be discouraged by thinking that if it rains, my running will stop for a while.

Today morning Part-1

Just came to this conclusion that a friend has come who is older than me but has been coming with us everyday for some time now to regain his old fitness and try his best to run and exercise as much as possible . Looking at the clouds, I told him the same thing that today there are many clouds. It may rain anytime. Meanwhile other friends also came who are still college students and are very fond of fitness. And he is much younger than both of us in age and fit too. And this friend also said as soon as he came that uncle the weather is a bit cold today. By the way, another friend was going to come today, but on calling him, his phone was switched off. That's why thought it would be better not to invite him because if he had to come, he would have got up earlier and was ready. A group of three of us started walking as usual, a few kilometers away from our house towards the forests and mountains to run and exercise.

Please wait for the next part to know what happened next. After reading which you will feel good and you will also get information about some important things in life.

Click for Hindi version

Please read this also -

Today morning Part-2 breaking the rules is also necessary

Today morning part -3 God, Faith and Positive energy

Comments

Popular posts from this blog

वह दिन - एक सच्चा अनुभव

 सुनें 👇 उस दिन मेरे भाई ने दुकान से फ़ोन किया की वह अपना बैग घर में भूल गया है ,जल्दी से वह बैग दुकान पहुँचा दो । मैं उसका बैग लेकर घर से मोटरसाईकल पर दुकान की तरफ निकला। अभी आधी दुरी भी पार नहीं हुआ था की मोटरसाइकल की गति अपने आप धीरे होने लगी और  थोड़ी देर में मोटरसाइकिल बंद हो गयी। मैंने चेक किया तो पाया की मोटरसाइकल का पेट्रोल ख़त्म हो गया है। मैंने सोचा ये कैसे हो गया ! अभी कल तो ज्यादा पेट्रोल था ,किसी ने निकाल लिया क्या ! या फिर किसी ने इसका बहुत ज्यादा इस्तेमाल किया होगा। मुझे एक बार घर से निकलते समय देख लेना चाहिए था। अब क्या करूँ ? मेरे साथ ही ऐसा क्यों होता है ?  मोटरसाइकिल चलाना  ऐसे समय पर भगवान की याद आ ही जाती है। मैंने भी मन ही मन भगवान को याद किया और कहा हे भगवान कैसे भी ये मोटरसाइकल चालू हो जाये और मैं पेट्रोल पंप तक पहुँच जाऊँ। भगवान से ऐसे प्रार्थना करने के बाद मैंने मोटरसाइकिल को किक मार कर चालू करने की बहुत कोशिश किया लेकिन मोटरसाइकल चालू नहीं हुई। और फिर मैंने ये मान लिया की पेट्रोल ख़त्म हो चूका है मोटरसाइकल ऐसे नहीं चलने वाली।  आखिर मुझे चलना तो है ही क्योंकि पेट

व्यवहारिक जीवन और शिक्षा

सुनें 👇 एक दिन दोपहर को अपने काम से थोड़ा ब्रेक लेकर जब मैं अपनी छत की गैलरी में टहल रहा था और धुप सेंक रहा था। अब क्या है की उस दिन ठंडी ज्यादा महसूस हो रही थी। तभी मेरी नज़र आसमान में उड़ती दो पतंगों पर पड़ी। उन पतंगों को देखकर अच्छा लग रहा था। उन पतंगों को देखकर मैं सोच रहा था ,कभी मैं भी जब बच्चा था और गांव में था तो मैं पतंग उड़ाने का शौकीन था। मैंने बहुत पतंगे उड़ाई हैं कभी खरीदकर तो कभी अख़बार से बनाकर। पता नहीं अब वैसे पतंग  उड़ा पाऊँगा की नहीं। गैलरी में खड़ा होना    पतंगों को उड़ते देखते हुए यही सब सोच रहा था। तभी मेरे किराये में रहने वाली एक महिला आयी हाथ में कुछ लेकर कपडे से ढके हुए और मम्मी के बारे में पूछा तो मैंने बताया नीचे होंगी रसोई में। वो नीचे चली गयी और मैं फिर से उन पतंगों की तरफ देखने लगा। मैंने देखा एक पतंग कट गयी और हवा में आज़ाद कहीं गिरने लगी। अगर अभी मैं बच्चा होता तो वो पतंग लूटने के लिए दौड़ पड़ता। उस कटी हुई पतंग को गिरते हुए देखते हुए मुझे अपने बचपन की वो शाम याद आ गई। हाथ में पतंग  मैं अपने गांव के घर के दो तले पर से पतंग उड़ा रहा था वो भी सिलाई वाली रील से। मैंने प

अनुभव पत्र

सुनें 👉 आज मैं बहुत दिनों बाद अपने ऑफिस गया लगभग एक साल बाद इस उम्मीद में की आज मुझे मेरा एक्सपीरियंस लेटर मिल जाएगा। वैसे मै ऑफिस दोबारा कभी नहीं जाना चाहता 😓लेकिन मजबूरी है 😓क्योंकि एक साल हो गए ऑफिस छोड़े हुए😎।नियम के मुताबिक ऑफिस छोड़ने के 45 दिन के बाद  मेरे ईमेल एकाउंट मे एक्सपीरियंस लेटर आ जाना चाहिए था☝। आखिर जिंदगी के पाँच साल उस ऑफिस में दिए हैं एक्सपीरियंस लेटर तो लेना ही चाहिए। मेरा काम वैसे तो सिर्फ 10 मिनट का है लेकिन देखता हूँ कितना समय लगता है😕।  समय  फिर याद आया कुणाल को तो बताना ही भूल गया😥। हमने तय किया था की एक्सपीरियंस लेटर लेने हम साथ में जायेंगे😇  सोचा चलो कोई बात नहीं ऑफिस पहुँच कर उसको फ़ोन कर दूंगा😑। मैं भी कौन सा ये सोच कर निकला था की ऑफिस जाना है एक्सपीरियंस लेटर लेने।आया तो दूसरे काम से था जो हुआ नहीं सोचा चलो ऑफिस में भी चल के देख लेत्ते हैं😊। आखिर आज नहीं जाऊंगा तो कभी तो जाना ही है इससे अच्छा आज ही चल लेते है👌। गाड़ी में पेट्रोल भी कम है उधर रास्ते में एटीएम भी है पैसे भी निकालने है और वापस आते वक़्त पेट्रोल भी भरा लूंगा👍।  ऑफिस जाना  पैसे निकालने