Skip to main content

Today morning part -3 God, Faith and Positive energy

In the last part you read how I realized while walking and change in weather that always following rules makes life boring. Sometimes breaking the rules or even a little change in view of the situation in front brings joy in life. That's why we also made changes in our morning routine and enjoying the changed weather, cold wind, very light raindrops and greenery, we walked forward talking to each other.

Now know what happened next, enjoying the changing weather and the cool breeze of the morning, we went ahead towards the mountains. While walking, we kept on talking here and there. In such talks, the talk of God and customs started and it started with the fact that many things that happen on customs and God are of superstition and without logic. A friend said that our old people have told many such rituals and mantras which are both rational and good for us. A friend also said that I do not believe in rituals like idol worship or in the Babas of today. I believe that there is a God and this is based on my belief. After saying this, the friend mentioned a true incident that happened with his father, in which he told that his father is a devotee of a Mother (Goddess) and believes in her a lot. Once when he was in trouble, how he was saved because of his faith in that goddess and the trouble was averted. That friend also told that seeing a burning lamp whether it is at a place of worship or at any other place, one experiences positive energy.

Today morning part -3 God, Faith and Positive energy

By the way, if seen, the work of the lamp is to light up the darkness. Means no matter how many problems are there in our life or our bad time is going on. Even in such times, like a lamp burning in the dark, there is definitely a positive energy inside us which gives us the feeling that do not give up. keep trying. A solution will definitely be found and things will be better in future. Or to say in other words, in bad times or at any point of life, that positive energy like a burning lamp keeps on raising the hope of something good in us. By the way, lamps and fire are also related to the development of humans when humans must have discovered fire and later started lighting lamps. After that man would have stopped being afraid of the dark to a great extent.

After this, I also kept my opinion that it all depends on our faith. If you believe then there is God. If you don't believe then it is not. It can also be believed that there is some energy which is driving everyone. I also do not accept anything blindly. I do not believe in worshiping the deity I do not believe in according to rituals or in irrational activities by making an idol of him. Rather, I wish to imbibe his goodness in me as I become strong, intelligent and of good character like him and feel that he is always with me and helps me to overcome any feeling of hatred. And whether someone supports me or not in bad times, but he definitely support me.

Today morning part -3 God, Faith and Positive energy

Overall, it was concluded that there is definitely a positive energy which motivates us to do something good. And it is up to us in what form and how we see that energy. We just have to avoid superstition and irrationality.

By the way, in the atmosphere of the morning like the cold winds blowing and touching us, seeing the mountains and forests in the distance and the clouds in the sky above them, it seemed very interesting to talk about God, faith, positive energy.

After that we walked through the forest towards the mountain in front, talking here and there. On reaching near the mountain, a group of soldiers were seen who were in sports dress and were climbing the mountain after running.

Please wait for the next part to know what happened next. After reading which you will feel good and you will also get information about some important things in life.

Click for Hindi version

Read this also -

Today morning Part-1

Today morning Part-2 breaking the rules is also necessary

Comments

Popular posts from this blog

वह दिन - एक सच्चा अनुभव

 सुनें 👇 उस दिन मेरे भाई ने दुकान से फ़ोन किया की वह अपना बैग घर में भूल गया है ,जल्दी से वह बैग दुकान पहुँचा दो । मैं उसका बैग लेकर घर से मोटरसाईकल पर दुकान की तरफ निकला। अभी आधी दुरी भी पार नहीं हुआ था की मोटरसाइकल की गति अपने आप धीरे होने लगी और  थोड़ी देर में मोटरसाइकिल बंद हो गयी। मैंने चेक किया तो पाया की मोटरसाइकल का पेट्रोल ख़त्म हो गया है। मैंने सोचा ये कैसे हो गया ! अभी कल तो ज्यादा पेट्रोल था ,किसी ने निकाल लिया क्या ! या फिर किसी ने इसका बहुत ज्यादा इस्तेमाल किया होगा। मुझे एक बार घर से निकलते समय देख लेना चाहिए था। अब क्या करूँ ? मेरे साथ ही ऐसा क्यों होता है ?  मोटरसाइकिल चलाना  ऐसे समय पर भगवान की याद आ ही जाती है। मैंने भी मन ही मन भगवान को याद किया और कहा हे भगवान कैसे भी ये मोटरसाइकल चालू हो जाये और मैं पेट्रोल पंप तक पहुँच जाऊँ। भगवान से ऐसे प्रार्थना करने के बाद मैंने मोटरसाइकिल को किक मार कर चालू करने की बहुत कोशिश किया लेकिन मोटरसाइकल चालू नहीं हुई। और फिर मैंने ये मान लिया की पेट्रोल ख़त्म हो चूका है मोटरसाइकल ऐसे नहीं चलने वाली।  आखिर मुझे चलना तो है ही क्योंकि पेट

व्यवहारिक जीवन और शिक्षा

सुनें 👇 एक दिन दोपहर को अपने काम से थोड़ा ब्रेक लेकर जब मैं अपनी छत की गैलरी में टहल रहा था और धुप सेंक रहा था। अब क्या है की उस दिन ठंडी ज्यादा महसूस हो रही थी। तभी मेरी नज़र आसमान में उड़ती दो पतंगों पर पड़ी। उन पतंगों को देखकर अच्छा लग रहा था। उन पतंगों को देखकर मैं सोच रहा था ,कभी मैं भी जब बच्चा था और गांव में था तो मैं पतंग उड़ाने का शौकीन था। मैंने बहुत पतंगे उड़ाई हैं कभी खरीदकर तो कभी अख़बार से बनाकर। पता नहीं अब वैसे पतंग  उड़ा पाऊँगा की नहीं। गैलरी में खड़ा होना    पतंगों को उड़ते देखते हुए यही सब सोच रहा था। तभी मेरे किराये में रहने वाली एक महिला आयी हाथ में कुछ लेकर कपडे से ढके हुए और मम्मी के बारे में पूछा तो मैंने बताया नीचे होंगी रसोई में। वो नीचे चली गयी और मैं फिर से उन पतंगों की तरफ देखने लगा। मैंने देखा एक पतंग कट गयी और हवा में आज़ाद कहीं गिरने लगी। अगर अभी मैं बच्चा होता तो वो पतंग लूटने के लिए दौड़ पड़ता। उस कटी हुई पतंग को गिरते हुए देखते हुए मुझे अपने बचपन की वो शाम याद आ गई। हाथ में पतंग  मैं अपने गांव के घर के दो तले पर से पतंग उड़ा रहा था वो भी सिलाई वाली रील से। मैंने प

अनुभव पत्र

सुनें 👉 आज मैं बहुत दिनों बाद अपने ऑफिस गया लगभग एक साल बाद इस उम्मीद में की आज मुझे मेरा एक्सपीरियंस लेटर मिल जाएगा। वैसे मै ऑफिस दोबारा कभी नहीं जाना चाहता 😓लेकिन मजबूरी है 😓क्योंकि एक साल हो गए ऑफिस छोड़े हुए😎।नियम के मुताबिक ऑफिस छोड़ने के 45 दिन के बाद  मेरे ईमेल एकाउंट मे एक्सपीरियंस लेटर आ जाना चाहिए था☝। आखिर जिंदगी के पाँच साल उस ऑफिस में दिए हैं एक्सपीरियंस लेटर तो लेना ही चाहिए। मेरा काम वैसे तो सिर्फ 10 मिनट का है लेकिन देखता हूँ कितना समय लगता है😕।  समय  फिर याद आया कुणाल को तो बताना ही भूल गया😥। हमने तय किया था की एक्सपीरियंस लेटर लेने हम साथ में जायेंगे😇  सोचा चलो कोई बात नहीं ऑफिस पहुँच कर उसको फ़ोन कर दूंगा😑। मैं भी कौन सा ये सोच कर निकला था की ऑफिस जाना है एक्सपीरियंस लेटर लेने।आया तो दूसरे काम से था जो हुआ नहीं सोचा चलो ऑफिस में भी चल के देख लेत्ते हैं😊। आखिर आज नहीं जाऊंगा तो कभी तो जाना ही है इससे अच्छा आज ही चल लेते है👌। गाड़ी में पेट्रोल भी कम है उधर रास्ते में एटीएम भी है पैसे भी निकालने है और वापस आते वक़्त पेट्रोल भी भरा लूंगा👍।  ऑफिस जाना  पैसे निकालने